STD disease Syphilis causes, signs, symptoms, risk factors, prevention tips, medical treatment | सावधान! HIV/AIDS भी तेज फैलता है ये खतरनाक यौन रोग, ऐसे लड़के-लड़कियों को होता है ज्यादा खतरा
सावधान! HIV/AIDS भी तेज फैलता है ये खतरनाक यौन रोग, ऐसे लड़के-लड़कियों को होता है ज्यादा खतरा

सिफलिस एक अत्यधिक संक्रामक बीमारी है जो ज्यादातर यौन गतिविधियों से फैलती है, जिसमें मौखिक और गुदा मैथुन शामिल हैं। संक्रमित व्यक्ति अक्सर यह नहीं जानता है कि उसे यह बीमारी है और यही वजह है कि उसके साथी को भी इस बीमारी होने का ज्यादा खतरा होता है। इससे पीड़ित को गठिया, मस्तिष्क क्षति और अंधापन जैसी गंभीर दीर्घकालिक समस्याएं पैदा हो सकती हैं। 

सिफलिस के कारण

सिफलिस रोग टी पैलिडम बैक्टीरिया के संक्रमण से फैलता है। यह रोग योनी, गुदा, मलाशय, मुंह में छाले और लिंग में बैक्टीरिया का संक्रमण होने पर यह तेजी से फैलता है। इसमें त्वचा पर छाले पड़ जाते हैं, जो एक इंसान से दूसरे इंसान में फैलता है। यौन संबंध के दौरान यह एक इंसान से दूसरे इंसान में फैलता है। ऐसा माना जाता है कि असुरक्षित यौन संबंध बनाने वाले लोगों में यह एड्स से भी ज्यादा तेजी से फैलता है।

शरीर में लगी चोट, छाले या श्लेष्म झिल्ली से टी पैलिडम बैक्टीरिया शरीर के अंदर फैलता है। एक बार शरीर में टी पैलिडम बैक्टीरिया जाने के बाद इसका इंफेक्शन शरीर में फैलने लगता है। अगर मां को सिफलिस रोग है तो होने वाले बच्चे को भी टी पैलिडम बैक्टीरिया का इंफेक्शन हो सकता है।

सिफलिस के लक्षण

प्राथमिक सिफलिस वाले लोगों को एक या अधिक घाव होते हैं जिन्हें चैंक्र्स कहा जाता है। वे आमतौर पर छोटे दर्द रहित अल्सर होते हैं। वे आपके गुप्तांगों,  गुदा या मलाशय, या आपके मुंह के आसपास 10 से 90 दिनों (औसतन 3 सप्ताह) के बाद आपके रोग के संपर्क में आने के बाद होते हैं। यहां तक कि अगर आप इलाज नहीं करते हैं, तो वे 6 सप्ताह के भीतर निशान के बिना ठीक हो जाते हैं। लेकिन उपचार आपकी बीमारी को अगले चरण में जाने से बचाएगा।

सिफलिस से खतरा

समय पर इलाज नहीं कराने से लक्षण गंभीर हो सकते हैं और पीड़ित को कण्ठ में मस्से जैसे घाव हो सकते हैं, उसके मुंह के अंदर सफेद धब्बे हो सकते हैं, लिम्फ ग्लैंड, बुखार, बालों का झड़ना और वजन कम हो सकता है। इनके अलावा एक तरह की गांठ आपकी त्वचा, हड्डियों या अंगों पर बढ़ सकती हैं जिससे आसपास के ऊतक नष्ट हो सकते हैं।

सिफलिस के कारण सिरदर्द, मेनिन्जाइटिस, मस्तिष्क क्षति, पक्षाघात, या सुनवाई और दृष्टि हानि जैसी समस्याएं हो सकती हैं। यह बीमारी आपके हृदय के वाल्वों को नुकसान पहुंचा सकती है या रक्त वाहिकाओं (एन्यूरिज्म) या सूजन महाधमनी का कारण बन सकती है। इतना ही नहीं, इससे आपको एचआईवी होने की संभावना बढ़ सकती है।

सिफलिस का इलाज

सिफलिस का इलाज पेनिसिलिन के इंजेक्शन द्वारा होता है। अगल-अलग चरण के हिसाब से पेनिसिलिन की खुराक दी जाती है। कई बार यह अधिक खतरनाक स्टेज पर होने से इलाज बहुत लंबा चलता है। 

सिफलिस से बचने के तरीके

यदि आपको पता है कि आपका पार्टनर संक्रमित हैं, तो उसके साथ यौन संबंध से बचें। यदि आपको पता नहीं है कि यौन साथी संक्रमित है, तो हर बार यौन संबंध बनाने के लिए कंडोम का उपयोग करें। इसके अलावा किसी भी तरह के लक्षण महसूस होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें, वरना यह घातक रोग आपको मुसीबत में डाल सकता है।

Web Title: STD disease Syphilis causes, signs, symptoms, risk factors, prevention tips, medical treatment
स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे