South Africa covid strain: टीका लगवा चुके लोगों को भी संक्रमित कर रहा कोरोना का नया स्ट्रेन 'B.1.1.529',जानें 10 बातें

By उस्मान | Published: November 26, 2021 02:25 PM2021-11-26T14:25:11+5:302021-11-26T14:25:25+5:30

बताया जा रहा है कि दक्षिण अफ्रीका में मिलने वाला कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन बी.1.1.529 डेल्टा से भी ज्यादा घातक है

south africa covid strain: 10 facts about covid new strain B.1.1.529, latest update and news about covid new strain B.1.1.529 in Hindi | South Africa covid strain: टीका लगवा चुके लोगों को भी संक्रमित कर रहा कोरोना का नया स्ट्रेन 'B.1.1.529',जानें 10 बातें

कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन

Next
Highlightsदक्षिण अफ्रीका सहित कई देशों में फैला कोरोना का नया स्ट्रेनभारत में नए स्ट्रेन को लेकर अलर्ट जारीजल्दी से फैलने वाला और ज्यादा घातक हो सकता है नया स्वरूप

कोरोना वायरस के नए मामले बेशक कम हो रहे हैं लेकिन खतरा अभी पूरी तरह टला नहीं है। एक तरफ जहां पूरी दुनिया में कोरोना के खिलाफ बड़े स्तर पर टीकाकरण अभियान चल रहा है, वहीं दूसरी तरफ कोरोना नए-नए रूप में दस्तक देकर हैरान कर रहा है। हाल ही में दक्षिण अफ्रीका सहित कई देशों में मिले कोरोना के नए रूप 'बी.1.1.529' ने वैज्ञानिकों को एक बार फिर चिंतित कर दिया है। 

कोरोना के गंभीर लक्षणों वाले मामले बढ़ सकते हैं
इस नए स्वरूप के सामने आने के बाद वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि वायरस के नए स्वरूपों की संख्या बढ़ सकती है जो टीका के प्रति अधिक प्रतिरोधी हो सकते हैं और उनके प्रसार की दर और अधिक हो सकती है व कोविड-19 के गंभीर लक्षण वाले मामलों में वृद्धि हो सकती है। 

पूरी तरह से टीका लगवा चुके लोगों में मिला नया स्ट्रेन
वैज्ञानिकों ने कोरोना के जिस नए स्ट्रेन की पहचान की है, वह पूरी तरह से टीकाकरण करा चुके लोगों में मिला है। यही वजह है कि वैज्ञानिक और डब्ल्यूएचओ इसे लेकर चिंतित है. 

आपात बैठक करेगा डब्ल्यूएचओ 
दक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोना वायरस के नए स्वरूप बी.1.1.529 पर नजर रखे हुए है और शुक्रवार को ‘विशेष बैठक’ करेगा जिसमें विचार किया जाएगा कि बहुत अधिक बदलाव से पैदा हुए स्वरूप को ‘चिंतित करने वाले स्वरूप’ की सूची में डाला जाए या नहीं। 

घातक और तेजी से फैलने वाला स्ट्रेन
अबतक मिली जानकारी के मुताबिक यह स्वरूप सबसे अधिक बदलाव की वजह से उत्पन्न हुआ है। सबसे पहले इसकी पहचान इस हफ्ते दक्षिण अफ्रीका में की गई थी और पहले ही बोत्सवाना सहित भारत के कई पड़ोसी देशों में फैल चुका है। वहां पता चला है कि वायरस का यह स्वरूप पूरी तरह से टीकाकरण करा चुके लोगों में मिला है। 

कोरोना के नए स्ट्रेन बी.1.1.1.529 से जुड़े फैक्ट्स 
- बी.1.1.1.529 संस्करण में कुल मिलाकर 50 उत्परिवर्तन हैं, जिसमें अकेले स्पाइक प्रोटीन पर 30 से अधिक उत्परिवर्तन शामिल हैं। स्पाइक प्रोटीन अधिकांश वर्तमान कोविड-19 टीकों का लक्ष्य है और यही वायरस शरीर की कोशिकाओं तक पहुंच को अनलॉक करने के लिए उपयोग करता है। शोधकर्ता अभी भी इस बात की पुष्टि करने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या यह इसे पहले के वेरिएंट की तुलना में अधिक पारगम्य या घातक बनाता है।

- डब्ल्यूएचओ में संक्रामक बीमारी महामारी और कोविड-19 तकनीकी समूह का नेतृत्व कर रही मारिया वान केरखोवे ने बताया,  '100 से भी कम स्वरूप का जीनोम अनुक्रमण उपलब्ध है। हम इसके बारे में अबतक नहीं जानते हैं। हम यह जानते हैं कि इस स्वरूप में अनुवांशिकी रूप से अधिक बदलाव हुए हैं। और जब कई स्वरूप होते हैं तो चिंता होती है कि कोविड-19 वायरस के व्यवहार पर यह कैसे असर डालेगा।

- उन्होंने कहा कि अनुसंधानकर्ता मिलकर यह समझने की कोशिश कर रहे हैं कि ये बदलाव और स्पाइक प्रोटीन कहा हैं और इनका पता लगाने की पद्धति, इलाज और टीका क्या हो सकता है। 

- उन्होंने कहा, 'हम कल (शुक्रवार) को फिर बैठक कर रहे हैं। इसपर चर्चा के लिए विशेष बैठक बुला रहे हैं, चेतावनी देने के लिए नहीं बल्कि इसलिए कि हमारे पास यह प्रणाली है। हम इन वैज्ञानिकों को साथ लाएंगे और चर्चा करेंगे कि इसके मायने क्या हैं और यह भी इनका समाधान तलाशने के लिए समयसीमा क्या हो सकती है। 

- इस सप्ताह पहली बार दक्षिण अफ्रीका में यह स्ट्रेन पहचाना गया. यह बोत्सवाना सहित आस-पास के देशों में फैल गया है, जहां पूरी तरह से टीकाकरण वाले लोग संक्रमित हो गए हैं। बोत्सवाना में चार और के साथ, दक्षिण अफ्रीका में 100 से अधिक मामले देखे गए हैं।

- हांगकांग में दो मामलों का पता चला है - जहां दक्षिणी अफ्रीका के कुछ हिस्सों से यात्रियों (जिन्हें फाइजर जैब मिला) को अलग-अलग कमरों में रखा गया था।  

- इजराइल ने बी.1.1.1.529 संस्करण द्वारा संक्रमण के अपने पहले मामले की पुष्टि की है; यात्री अफ्रीकी देश मलावी से लौट रहा था। बताया जा रहा है कि यहां इस समय दो अन्य नमूनों को 'संभावित' के रूप में चिह्नित किया गया है।

- विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस प्रकार से निपटने के प्रारंभिक चरणों में सावधानी बरतने का आह्वान किया है. संगठन ने कहा है कि बी.1.1.529 कैसे व्यवहार करता है, इसे समझने के लिए और अधिक शोध किए जाने की जरूरत है।  

- भारत सरकार ने राज्यों से इन देशों से आने और जाने वाले सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की 'कड़ी जांच और परीक्षण' करने को कहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि नए संस्करण में काफी अधिक संख्या में उत्परिवर्तन होने की सूचना है, और इस प्रकार देश के लिए गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रभाव पड़ता है, खासकर ऐसे समय में जब वीजा प्रतिबंधों में ढील दी गई है और अंतरराष्ट्रीय यात्रा खुल रही है।

(समाचार एजेंसी भाषा के इनपुट के साथ)

Web Title: south africa covid strain: 10 facts about covid new strain B.1.1.529, latest update and news about covid new strain B.1.1.529 in Hindi

स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे