Highlightsअब सिर्फ महिलाएं ही नहीं, बल्कि पुरुष भी इसका तेजी से शिकार हो रहे हैंबिगड़ती जीवनशैली यूटीआई का बड़ा कारण

खराब खान-पान, कम पानी पीना, पेशाब को देर तक रोकना और बिगड़ती जीवनशैली की वजह से यूटीआई यानी मूत्र पथ में संक्रमण एक आम समस्या बन गई है। अब सिर्फ महिलाएं ही नहीं, बल्कि पुरुष भी इसका तेजी से शिकार हो रहे हैं। यह मूत्र प्रणाली के किसी भी हिस्से में होने वाला संक्रमण है, जो आपके गुर्दे, मूत्रवाहिनी, मूत्राशय और मूत्रमार्ग को प्रभावित करता है। यह समस्या अधिकतर निचले मूत्र पथ-मूत्राशय और मूत्रमार्ग में ज्यादा होती है।

यूटीआई के लक्षण

हेल्थ वेबसाइट वेबमडी के अनुसार, यूटीआई के लक्षणों में पेशाब करते समय दर्द या जलन होना, आपके निचले पेट में दर्द, मूत्राशय के ऊपर (आपकी प्यूबिक बोन के ऊपर) दर्द होना, जल्दी या देरी से पेशाब आना, थोड़ा-थोड़ा पेशाब आना, कमर के निचले हिस्से में दर्द होना, गाढ़ा, धुंधला पेशाब, पेशाब में खून आना और यौन संबंध बनाते समय दर्द महसूस होना इसके आम लक्षण हैं।

यूटीआई का इलाज

डॉक्टर आमतौर पर एंटीबायोटिक दवाओं के साथ मूत्र पथ के संक्रमण का इलाज करते हैं। लेकिन आप यूटीआई होने की संभावनाओं को कम करने के लिए कुछ कदम उठा सकते हैं। कुछ एक्सपर्ट मानते हैं कि नियमित रूप से दही और अनार के रस के सेवन से इस समस्या से बचा जा सकता है और लक्षणों को कम किया जा सकता है। चलिए जानते हैं कैसे- 

1) यूटीआई के लिए दही

दरअसल मूत्र जननांग क्षेत्र में बैक्टीरिया के विकास होने पर यूटीआई की समस्या होती है। इसलिए इस हिस्से से बैक्टीरिया को ख़त्म करना बहुत ज़रूरी होता है। दही एक नेचुरल प्रोबायोटिक है। इसके तत्व नेचुरल एंटीबायोटिक होते हैं। इसमें मौजूद लैक्टोबैसिलस और गुड बैक्टीरिया यूटीआई के लिए जिम्मेदार हानिकारक बैक्टीरिया को नष्ट करने में मदद करते हैं।

यूटीआई से निपटने ने और इससे दूर रहने के लिए रोजाना एक कटोरी दही खानी चाहिए। अमेरिकन सोसायटी जर्नल फॉर क्लीनिकल न्यूट्रीशन में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, एक हफ्ते में तीन बार से अधिक मिल्क प्रोडक्ट खाने से यूटीआई के लक्षणों से राहत मिलती है। इसके अलावा आप रोजाना कम से कम आठ गिलास पानी पियें। इससे शरीर से टोक्सिन बाहर निकलने और यूटीआई की पुनरावृत्ति को रोकने में मदद मिलती है।

2) यूटीआई के लिए अनार

अनार में उच्च मात्रा में विटामिन सी अन्य एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो मूत्राशय की दीवारों पर बैक्टीरिया को चिपके से रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। विटामिन सी इम्युनिटी सिस्टम मज़बूत करने में और इन्फेक्शन के खिलाफ लड़ने में सहायक हैं, जिससे यूटीआई से जल्दी से ठीक होने में मदद मिलती है। 

इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट से इन्फेक्शन के लिए ज़िम्मेदार हानिकारक विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने में मदद मिलती है, जिससे यूटीआई का खतरा कम होता है। यूटीआई के लक्षणों को कम करने के लिए रोजाना (रात को खाने के बाद) एक कटोरी अनार खाएं। इसके अलावा आप नियमित रूप से अनार का जूस भी पी सकते हैं। 

3) यूटीआई के लिए लौकी

लौकी के कई स्वास्थ्य लाभ हैं और यह प्रभावी रूप से यूटीआई से लड़ने में सहायक है। लौकी क्षारीय है और इसलिए ये मूत्रवर्धक के रूप में जलन से राहत देता है जो पेशाब के समय होती है।

4) यूटीआई के लिए बरगद के पेड़ की छाल

आयुर्वेद के अनुसार, बरगद के पेड़ की छाल मूत्र पथ के संक्रमण जैसे ट्राइकोमोनीस, योनिशोथ और श्रोणि सूजन संक्रमण के उपचार में मदद कर सकती है। आमतौर पर, बरगद के पेड़ की छाल को कैप्सूल या अर्क के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है और इसलिए यूटीआई के दर्दनाक लक्षणों से राहत देता है।

5) यूटीआई के लिए जौ
जौ के पानी को मूत्र पथ के संक्रमण सहित कई स्वास्थ्य रोगों के इलाज के लिए जाना जाता है। आपको बस एक पैन में जौ को भूरा होने तक भूनना है। ठंडा होने के बाद, उन्हें एक महीन पाउडर में पीस लें। तीन चम्मच पाउड और दो चम्मच शहद को एक गिलास ठंडा पानी में मिक्स करके पियें।

6) यूटीआई के लिए नींबू
नींबू का रस विषाक्त पदार्थों और बैक्टीरिया को बाहर निकालने में मदद करता है जो यूटीआई के लिए जिम्मेदार हैं। नींबू में मौजूद विटामिन सी संक्रमणों से भी लड़ने में मदद करेगा।

इस बात का रखें ध्यान

अगर आपको ऊपर बताए गए कोई भी लक्षण महसूस होते हैं, तो आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए। सिर्फ घरेलू उपायों पर निर्भर रहने से स्थिति खतरनाक हो सकती है। इसलिए इलाज के साथ-साथ इन उपायों को आजमाने से आपको ज्यादा और जल्दी राहत मिल सकती है। 

Web Title: Early and signs and symptoms of UTI in men and women, foods to get rid uti, causes and prevention tips for uti
स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे