COVID-19 effect: study claim If you have a heart attack while battling the coronavirus, doctors may not be able to save you | COVID-19 effect: वैज्ञानिकों का दावा, कोरोना मरीज को अगर आ गया हार्ट अटैक तो बढ़ सकता है मौत का खतरा
कोरोना वायरस

Highlightsकोरोना के मरीज को हार्ट अटैक आने पर मौत का खतरा ज्यादाजामा इंटरनल मेडिसिन में प्रकाशित अध्ययन में दावाअस्पताल में भर्ती अधिकतर मरीजों की दिल का दौरा पड़ने से मौत

कोरोना वायरस का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसकी रोकथाम के लिए अभी तक कोई वैक्सीन बाजार में नहीं आई है। आठ महीने से ज्यादा दिनों के बाद भी यह वायरस सभी के लिए एक रहस्य है। दुनिया भर के शोधकर्ता इस नए वायरस को समझने और मौजूदा स्वास्थ्य संकट के समाधान के लिए मिलकर काम कर रहे हैं। 

वायरस को लेकर तमाम जानकारियां मिलने के बाद भी कोविड-19 के बारे में कुछ बातें अभी अज्ञात है। वैज्ञानिकों ने जिन रहस्यमय चीजों को छोड़ दिया है उनमें से वायरस के कारण, लक्षण और जटिलताएं शामिल हैं। 

कोरोना वायरस के लक्षण
कोरोना के लक्षण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकते हैं क्योंकि यह अलग-अलग लोगों को अलग-अलग तरीकों से प्रभावित करता है। बुखार, सूखी खांसी और थकान को कोरोना के सबसे सामान्य लक्षणों के रूप में जाना जाता है।

कुछ रोगियों को कम सामान्य लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं जैसे नाक में जलन, सिरदर्द, आंखों में जलन, गले में खराश, दस्त, स्वाद या गंध की कमी आदि। गंभीर लक्षणों में सांस लेने में कठिनाई और सीने में दर्द शामिल हैं। 

कोरोना के गंभीर लक्षण
कोरोना के गंभीर लक्षणों में तीव्र श्वसन विफलता, निमोनिया, लीवर, हार्ट, किडनी इंजरी, सदमा आदि शामिल हैं जो मौत का कारण बन सकते हैं। कोरोना से दिल पर भी असर पड़ सकता है। 

कोरोना के दौरान हार्ट अटैक से मौत का खतरा
द हेल्थ साइट के अनुसार, एक नए अध्ययन के मुताबिक, अगर कोरोन वायरस से जूझने के दौरान आपको दिल का दौरा पड़ता है, तो डॉक्टर आपको बचा नहीं सकते। अध्ययन का परिणाम 1,309 रोगियों के अवलोकन पर आधारित है जिन्हें कोरोना वायरस के बाद मिशिगन अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 

heart failure: This drug works on the basis of your body clock to treat heart attacks - The Economic Times

उन रोगियों में से, 60 मरीजों की दिल का दौरा पड़ने के बाद मौत हो गई। यह अध्ययन जामा इंटरनल मेडिसिन में प्रकाशित किया गया है। इसका मतलब है कि कोरोना के रोगियों में से कम से कम 90 प्रतिशत दिल का दौरा पड़ने से मर गए।

भारत में कोरोना के पिछले 24 घंटे में 80,472 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 62,25,764  हो गयी । वहीं 1,179 और लोगों की मौत के बाद मृतकों का आंकड़ा बढ़कर 97,497 पर पहुंच गया है।

ठीक होने की दर बढ़कर 83.01% 
वहीं, संक्रमण मुक्त होने वाले लोगों की कुल संख्या भी 51 लाख से अधिक हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसकी जानकारी दी। संक्रमण से मुक्त होने वाले लोगों की कुल संख्या 51,87,826 हो गई है। इसी के साथ देश में मरीजों के ठीक होने की दर बढ़कर 83.01 प्रतिशत हो गई। 

9,40,441 मरीजों का इलाज जारी
देश में अभी 9,40,441 मरीजों का कोरोना वायरस का इलाज जारी है, जो कुल मामलों का 15.42 प्रतिशत है। देश में कोरोना वायरस से मृत्यु दर 1.57 प्रतिशत है।

15 में से एक व्यक्ति के संक्रमित होने का अनुमान
भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के दूसरे सीरो सर्वे के अनुसार अगस्त 2020 तक दस साल और इससे ऊपर के 15 व्यक्तियों में से एक व्यक्ति के सार्स-सीओवी2 की चपेट में होने का अनुमान है जो काफी आबादी के अभी भी कोरोना वायरस संक्रमण से प्रभावित होने की आशंका दर्शाता है। 

6.6% लोगों में दिखे कोरोना के लक्षण 

Web Title: COVID-19 effect: study claim If you have a heart attack while battling the coronavirus, doctors may not be able to save you
स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे