Coronavirus Vaccine update: Who should be the first in line for Covid-19 vaccine, coronavirus vaccine human trial update | Coronavirus Vaccine: जानिये किसे लगेगा कोविड-19 का पहला टीका, कब तक तैयार हो जाएगी वैक्सीन
कोरोना वायरस की वैक्सीन

Highlightsकोविड-19 का टीका सबसे पहले किन्हें दिया जाए, अमेरिका में चल रही है बहसस्वास्थ्यकर्मियों को दिया जा सकता है पहला कोरोना का पहला टीकाअधिक प्रभावित क्षेत्रों को भी मिल सकती है प्राथमिकता

कोरोना वायरस का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। चीन से निकले इस खतरनाक वायरस से दुनियाभर में अब तक 18,234,936 लोग संक्रमित हो गए हैं और 692,794 लोगों की मौत हो गई है। कोरोना के लिए अभी तक कोई वैक्सीन नहीं बनी है हालांकि को वैक्सीन का ट्रायल अंतिम चरण में चल रहा है। इस बीच अमेरिकी स्वास्थ्य अधिकारियों को उम्मीद है कि कोविड-19 का विकसित होने वाला टीका सबसे पहले किन्हें दिया जाएगा, इसको लेकर अगले महीने के अंत तक दिशा-निर्देश का मसौदा तैयार हो जाएगा। 

हालांकि, उनका मानना है कि यह एक अप्रिय फैसला होगा। राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान के निदेशक डॉ.फ्रांसिस कोलिंस ने कहा, 'हर कोई इसका उत्तर पसंद नहीं करेगा। उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान सरकार के सलाहकार समूह का हिस्सा है, जिससे हाल में इस मामले में मदद करने को कहा गया है।

स्वास्थ्यकर्मियों को दिया जा सकता है पहला टीका
उन्होंने कहा, 'ऐसे कई लोग होंगे, जो मानते हैं कि प्राथमिकता सूची में उन्हें सबसे ऊपर रखा जाना चाहिए।' पारंपरिक रूप से संभावित टीके को हासिल करने वालों की कतार में स्वास्थ्य कर्मी और वे लोग हैं, जिन्हें संक्रमण से सबसे अधिक खतरा है। 

अधिक प्रभावित क्षेत्रों को मिल सकती है प्राथमिकता
हालांकि, कोलिंस नया विचार लेकर आए हैं। वह महामारी से सबसे अधिक प्रभावित लोगों और उन भौगोलिक क्षेत्रों को प्राथमिकता देना चाहते हैं, जहां इसका सर्वाधिक प्रभाव देखने को मिला है। 

साथ ही टीके के अंतिम चरण के परीक्षण में शामिल स्वयं सेवक हैं क्योंकि एक तुलनात्मक समूह की जरूरत है, जो बता सके कि वास्तव में जिन लोगों को टीका दिया गया है वह वास्तव में काम कर रहा है। कोलिंस ने कहा, 'हम उन्हें विशेष प्राथमिकता देंगे।' 

जारी है कोरोना की वैक्सीन का ट्रायल
उल्लेखनीय है कि इन गर्मियों में इस अध्ययन का उद्देश्य यह साबित करना है कि कोविड-19 के कौन से प्रायोगिक टीके सुरक्षित और प्रभावी हैं। मॉडर्ना इंक और फाइजर इंक ने पिछले हफ्ते परीक्षण शुरू किया और प्रत्येक परीक्षण में 30 हजार स्वयंसेवक शामिल हैं। अगले कुछ महीनों में इतने ही स्वयं सेवकों के साथ एस्ट्राजेनेका, जॉनसन ऐंड जॉनसन और नोवावेक्स भी परीक्षण करेंगे।

टीकाकरण के लिए सलाहकार समिति गठित
कुछ चीन में निर्मित टीकों का भी छोटे स्तर पर अगले चरण का परीक्षण अन्य देशों में हो रहा है। अमेरिका में रोग नियंत्रण एवं निषेध केंद्र ने टीकाकरण के लिए सलाहकार समिति गठित की है , जो सरकार को टीकाकरण के संबंध में परामर्श देगी। उसकी सलाह सरकार लगभग हमेशा मानती है। टीके को लेकर भ्रामक सूचना प्रसारित हो रही है और भय है कि इसमें राजनीति हो सकती है। 

आवश्यक सेवाओं में लगे लोगों को मिल सकती है टीके की पहली खुराक
रोग नियंत्रण केंद्र के निदेशक रॉर्बट रेडफिल्ड ने कहा कि जनता को लगना चाहिये कि टीके का वितरण समानता, निष्पक्षता और पारदर्शिता के साथ हो रहा है। यह कैसे होगा? इस पर रोग नियंत्रण केंद्र ने शुरुआती परामर्श में कहा, टीके की पहली 1.2 करोड़ खुराक गंभीर रूप से बीमार, राष्ट्रीय सुरक्षा में लगे और अन्य आवश्यक सेवाओं में लगे लोगों को देनी चाहिए।

वहीं अगली 11 करोड़ खुराक उन लोगों को दी जानी चाहिए, जिन्हें कोविड-19 से सबसे अधिक खतरा है। इनमें 65 साल से अधिक उम्र के लोगों, खराब सेहत वाले किसी भी उम्र के लोग शामिल हैं। इसके बाद आम लोगों का टीकाकरण होना चाहिए।

(समाचार एजेंसी भाषा के इनपुट के साथ) 

English summary :
Coronavirus Vaccine Update: US health officials hope that the first vaccine to be developed will be drafted by the end of next month.


Web Title: Coronavirus Vaccine update: Who should be the first in line for Covid-19 vaccine, coronavirus vaccine human trial update
स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे