Highlightsपुरानी बीमारियों से पीड़ितों को जल्दी चपेट में लेता है कोरोनावयस्कों की तुलने में बच्चों को कम प्रभावित करता है कोविड-19 कमजोर इम्यूनिटी सिस्टम वाले लोग जल्दी आते हैं कोरोना की चपेट में

कोरोना वायरस (COVID-19) अलग-अलग जगहों पर लोगों को अलग-अलग तरीके से प्रभावित कर रहा है। कुछ लोग कोरोना से गंभीर रूप से पीड़ित हो रहे हैं जबकि कुछ लोग नहीं। कई अध्ययन इस बात का खुलासा कर चुके हैं कि कोविड-19 बुजुर्गों को अधिक प्रभावित करता है। 

हाल ही में एक रिसर्च में यह सामने आया था कि कोरोना ब्लड ग्रुप के आधार पर लोगों को कम-ज्यादा प्रभावित कर रहा है। वैज्ञानिक इसे बेहतर तरीके से समझने की कोशिश कर रहे हैं कि कुछ लोगों को दूसरों की तुलना में कोविड-19 का जोखिम ज्यादा क्यों है। चलिए जानते हैं वो क्या-क्या कारक हैं। 

छींकने, खांसने, बात करने से निकली छोटी बूंदें

कुछ वैज्ञानिकों का कहना है कि 'एयरोसोल ट्रांसमिशन' इसका एक बड़ा कारण हो सकता है। यह तब होता है, जब वायरस बहुत महीन बूंदों से फैलता है। यह छींकने, खांसने या बात करते समय निकलने वाली कणों की तुलना में हवा में अधिक देर तक रह सकती हैं।

Here

यह मोटी बूंदों की तुलना में अधिक खतरनाक हो सकती हैं क्योंकि शरीर में बड़े कणों को अवरुद्ध करने के लिए तंत्र होते हैं। छोटी बूंदें फेफड़ों में गहराई तक पहुंच सकती हैं, जहां वायरस फेफड़ों के अन्य हिस्सों की तुलना में बहुत मजबूत पकड़ लेता है।

वायरस या वायरल लोड की मात्रा

एक अन्य कारण संचारित वायरस या वायरल लोड की मात्रा है। संक्रमण के समय बड़ी मात्रा में कोरोना वायरस के संपर्क में आने से अधिक गंभीर बीमारी हो सकती है। यह समझा सकता है कि क्यों कुछ फ्रंटलाइन हेल्थकेयर श्रमिकों ने किसी अन्य प्रमुख जोखिम कारकों को प्रभावित नहीं करने के बावजूद कोविड-19 के अधिक गंभीर रूपों का अनुभव किया है। बड़े वायरल लोड का संभावित प्रभाव भी उचित सोशल डिस्टेंसिंग गड़बड़ी की आवश्यकता को प्रमुखता देता है।

What is viral load?

वयस्कों के मुकाबले बच्चों को कम खतरा

एक बार जब यह शरीर में प्रवेश करता है, तो वायरस फेफड़े की कोशिकाओं, रक्त वाहिकाओं, आंतों और गले और नाक मार्ग के पीछे की सतहों पर एसीई 2 रिसेप्टर्स के जरिये कोशिकाओं पर हमला करता है। कुछ अध्ययन कहते हैं कि बच्चों को संक्रमण का कम जोखिम होता है क्योंकि उनके पास एसीई 2 रिसेप्टर कम होते हैं, कई सेल प्रकारों पर सतह पर एक प्रोटीन होता है जिससे वायरस आसानी से चिपक जाते हैं।

ब्लड ग्रुप

खून के जरिये भी यह समझा जा सकता है कि कोरोना के कुछ रोगी दूसरों की तुलना में क्यों प्रभावित होते हैं। एक यूरोपीय अध्ययन में पाया गया कि एबीओ जीन, जो रक्त के प्रकार को निर्धारित करता है, कोविड-19 रोगियों में श्वसन विफलता को समझने में मदद कर सकता है।

ए ब्लड ग्रुप वाले लोगों को ऑक्सीजन या वेंटिलेटर की आवश्यकता का 50% अधिक हो सकती है जबकि टाइप ओ वाले लोग संक्रमण का कम गंभीर खतरा होता है।

Blood Type Personality: What's your blood group? The answer might reveal some interesting things about you

टाइप ए ब्लड वाले मरीजों में छोटे रक्त के थक्के भी विकसित होते हैं, जो वायरस का अधिक गंभीर लक्षण है। हालांकि यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि जीन क्या भूमिका निभाता है, एक विशेषज्ञ ने सुझाव दिया कि यह सूजन से जुड़ा हो सकता है।

पुरानी बीमारियां

कई अध्ययनों में यह भी बताया गया है कि पहले से हृदय रोग, डायबिटीज और मोटापा जैसी बीमारियों से पीड़ित लोग कोरोनो वायरस के लिए अतिसंवेदनशील होते हैं। शोधकर्ता यह समझने की कोशिश कर रहे हैं कि इस तरह के रोगों से पीड़ित कोविड-19 मरीजों के उपचार में कैसे सुधार किया जा सकता है।

उदाहरण के लिए अमेरिका के एक अस्पताल में 60 वर्ष से कम आयु के रोगियों में मोटापा सबसे बड़ा जोखिम कारक था। 30 से 34 के बॉडी मास इंडेक्स वाले मरीजों को यूएस सेंटर फॉर डिजीज एंड कंट्रोल द्वारा मोटे के रूप में परिभाषित किया गया था, जिनके आईसीयू में भर्ती होने की संभावना 30 से कम बीएमआई वाले लोगों की तुलना में दोगुनी थी। 

इम्यूनिटी सिस्टम कमजोर होना

कुछ लोगों का इम्युनिटी सिस्टम दूसरों की तुलना में बीमारियों से निपटने के लिए बेहतर होता है। जाहिर है संक्रमण से लड़ने के लिए स्ट्रोंग इम्यून सिस्टम जरूरी है। एक बीमारी की स्थिति में शरीर साइटोकिन्स का उत्पादन करता है, जो इम्यून सिस्टम की प्रतिक्रिया को निर्देशित करने में मदद करता है।

साइटोकिन्स शरीर में कई अलग-अलग कोशिकाओं द्वारा छोड़े गए छोटे प्रोटीन होते हैं, जिनमें स्ट्रोंग इम्यून सिस्टम शामिल होता है जहां वे संक्रमण के खिलाफ शरीर की प्रतिक्रिया को समन्वित करते हैं और सूजन को बढ़ाते हैं। यदि पर्याप्त साइटोकिन्स नहीं हैं तो स्ट्रोंग इम्यून सिस्टम बीमारी को हरा देने के लिए पर्याप्त मजबूत नहीं होगी। 

Web Title: Coronavirus pandemic: 6 reasons why some people face greater risks from Covid-19 than others in Hindi
स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे