आजकल 25 साल की उम्र में लोगों को किडनी की समस्या, गठिया, जोड़ों में दर्द, पैर की उंगलियों में दर्द, एडियों में दर्द और सूजन की शिकायत होने लगती है। क्या आपने कभी सोचा है कि इतनी कम उम्र में ऐसा क्यों होने लगा है? एक्सपर्ट्स मानते हैं कि इन समस्याओं का कारण शरीर में यूरिक एसिड लेवल बढ़ना हो सकता है। 

यूरिक एसिड क्या होता है?

दिल्ली के आर्थोपेडिक सर्जन डॉक्टर एम विजय सिंह के अनुसार, शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा का बढ़ना का एक गंभीर रोग बन गया है। यूरिक एसिड कार्बन, हाइड्रोजन, ऑक्सीजन और नाइट्रोजन जैसे तत्वों से मिलकर बना एक तत्व होता है, जो शरीर को प्रोटीन से एमिनो एसिड के रूप में प्राप्त होता है। 

यह उन चीजों से बनता है, जो आप खाते हैं। जब किडनी सही तरह फिल्टर नहीं कर पाती है, तो यूरिया यूरिक एसिड में परिवर्तित होकर हड्डियों के बीच में जमा हो जाता है। हड्डियों के बीच यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने से गाउट हो जाता है, जो एक प्रकार का गठिया रोग ही होता है जिसमें शरीर के जोड़ों में बहुत दर्द रहने लगता है।

शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने के कारण

- अधिक मात्रा में प्रोटीन और शुगर का सेवन
- कई लोगों मे यह समस्या जेनेटिक भी होती है
- लीवर द्वारा सीरम यूरिक एसिड के कम उत्सर्जन के कारण 
- उपवास या तेजी से वजन घटाने से  
- आयरन लेवल बढ़ने से  
- पेशाब बढ़ाने वाली दवाएं या डायबिटीज दवायें 
- रेड मीट, सी फूड, रेड वाइन, दाल, राजमा, मशरूम, गोभी, टमाटर, पालक, मटर, पनीर

यूरिक एसिड बढ़ने से नुकसान

शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने से आपको गठिया रोग होने का खतरा रहता है। इससे आपको हाथों पैरों में जकड़न महसूस होने लगती है। यूरिक एसिड के क्रिस्टल्स यूरिन नली में जमा हो जाते हैं, जिससे किडनी स्टोन की समस्या हो सकती है। एक शोध में बताया गया है खून में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने से दिल के रोगों का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा यूरिक लेवल ज्यादा हाई होने पर हार्ट अटैक भी आ सकता है। इससे इंसुलिन का बैलेंस बिगड़ जाता है जिससे डायबिटीज का खतरा भी बढ़ जाता है। इसके अलावा बीपी या हाइपरटेंशन की समस्या का एक कारण यूरिक एसिड भी है।

यूरिक एसिड लेवल कम करने के लिए खायें ये चीजें

1) सेब
अपनी डाइट में सेब को शामिल करें। इनमें मैलिक एसिड होता है, जो रक्त प्रवाह में यूरिक एसिड को बेअसर करते हैं। इसलिए रोजाना एक सेब जरूर खायें। 

2) सेब का सिरका
यूरिक एसिड से पीड़ित लोगों के लिए सेब का सिरका भी फायदेमंद है। आप एक गिलास पानी में 3 चम्मच सिरका मिला सकते हैं। आप इसका सेवन हर दिन 2-3 बार कर सकते हैं। 

3) फ्रेंच बीन का रस
फ्रेंच बीन्स का निकाला हुआ रस पीना गाउट के इलाज के लिए एक प्रभावी घरेलू उपाय है। इस स्वस्थ रस का सेवन दिन में दो बार करना चाहिए क्योंकि यह रक्त में उच्च यूरिक एसिड के उत्पादन को रोकता है।

4) चेरी
इसके एंटी इंफ्लेमेटरी गुण को anthocyanins के रूप में जाना जाता है, यह यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में मदद करता है। ये एसिड को बेअसर करते हैं और सूजन और दर्द को रोकने में मदद करते हैं।

5) बेरी
आपको विशेष रूप से स्ट्रॉबेरी और ब्लूबेरी का सेवन करना चाहिए। ये चीजें रक्त में उच्च यूरिक एसिड के स्तर को कम करती हैं। इन सभी चीजों में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं।

6) केले
आपको रोजाना कम से कम दो केलों का सेवन करना चाहिए। इससे एक्स्ट्रा यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में मदद मिलती है। 

7) ग्रीन टी 
हाई यूरिक एसिड का इलाज करने का एक अन्य तरीका हर दिन ग्रीन टी पीना है। यह हाइपर्यूरिकमिया या उच्च यूरिक एसिड के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करती है और गाउट के जोखिम को भी कम करती है।

8) टमाटर, खीरे और ब्रोकोली
अपनी डाइट में हर हाल में टमाटर, खीरे और ब्रोकोली शामिल करें। यह यूरिक एसिड के गठन को रोकती हैं।


Web Title: causes symptoms and risk factors of uric acid and include these foods in your diet to decrease uric acid and prevent of gout, kidney stones, arthritis, hypertension, heart attack
स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे