खून बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाय : शरीर में खून बढ़ाने और एनीमिया से बचने के लिए अपनाएं ये आयुर्वेदिक उपाय

By उस्मान | Published: September 14, 2021 12:38 PM2021-09-14T12:38:33+5:302021-09-14T12:40:19+5:30

अध्ययनों से पता चलता है कि भारत में आधी से ज्यादा महिलाएं खून की कमी यानी एनीमिया से पीड़ित है।

Ayurvedic tips to increase hemoglobin in blood: 6 effective home remedies to increase blood and beat anemia naturally | खून बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाय : शरीर में खून बढ़ाने और एनीमिया से बचने के लिए अपनाएं ये आयुर्वेदिक उपाय

खून बढ़ाने के उपाय

Next
Highlightsभारत में आधी से ज्यादा महिलाएं खून की कमी यानी एनीमिया से पीड़ित

अध्ययनों से पता चलता है कि भारत में आधी से ज्यादा महिलाएं खून की कमी यानी एनीमिया से पीड़ित है। एनीमिया शरीर में ऑक्सीजन के प्रवाह की कमी के कारण होती है जिससे कई समस्याएं हो सकती हैं।

एनीमिया के कारण

1) हीमोग्लोबिन की कमी
हीमोग्लोबिन शरीर की लाल रक्त कोशिकाओं (आरबीसी) में ऑक्सीजन का वाहक है। जब पर्याप्त हीमोग्लोबिन नहीं बनता है, तो आरबीसी का आकार कम हो जाता है, जिससे ऑक्सीजन का अपर्याप्त प्रवाह होता है। आयरन की कमी के कारण हीमोग्लोबिन का अपर्याप्त उत्पादन होता है।

2) अधिक आकार के आरबीसी
अधिक आकार के आरबीसी फोलिक एसिड या विटामिन बी 12 की कमी के कारण होते हैं। जब आरबीसी अधिक आकार के हो जाते हैं, तो वे रक्त वाहिकाओं से नहीं गुजर सकते हैं, जिससे ऑक्सीजन का प्रवाह बाधित होता है।

एनीमिया के लक्षण

थकान
सिरदर्द
तेज हृदय गति
सांस में कमी 
बाल झड़ना

आयुर्वेद के अनुसार एनीमिया के कारण

आयुर्वेद के अनुसार, विकृत पित्त या पित्त (अग्नि तत्व) के असामान्य दिशा में बहने के कारण पोषक तत्वों की कमी होती है। इसका मतलब है कि एनीमिया का कारण सिर्फ पोषक तत्वों की कमी नहीं है बल्कि शरीर के अग्नि तत्व के साथ कुछ गड़बड़ होना भी है। खट्टे और नमकीन खाद्य पदार्थों का अत्यधिक सेवन और 
अत्यधिक शारीरिक परिश्रम भी इसके कारण हैं।

खून की कमी दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय

स्वाभाविक रूप से, इन कारणों में शामिल होने के लिए, आपको अपने आहार में आयरन युक्त या विटामिन बी 12 युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करने से थोड़ा अधिक करना होगा। कुछ घरेलू उपचार भी हैं, जो खून की कमी को दूर कर सकते हैं। 

नमकीन, खट्टा और मसालेदार भोजन से बचें
ये खाद्य पदार्थ पित्त को असामान्य दिशा में निर्देशित करते हैं जिससे पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। इसलिए इनसे बचने की सलाह दी जाती है।

नेचर फार्मेसी 
प्रकृति में कुछ ऐसे पौधे हैं जो एनीमिया के प्रभाव को कम करने में मदद करते हैं। नीम और तुलसी के सर्वोत्तम उदाहरण हैं। नीम आयरन से भरपूर होता है। जबकि तुलसी आयरन और विटामिन सी से भरपूर होती है - एक विटामिन जो आयरन के अवशोषण में मदद करता है।

अंजीर का दूध लें
यह खून में हीमोग्लोबिन बढ़ाने का घरेलू उपाय है क्योंकि अंजीर आयरन से भरपूर होता है। दूध में अंजीर और इलायची के टुकड़ों को धीमी आंच पर उबालकर रात को सोते समय पीने की सलाह दी जाती है। ऐसा हफ्ते में दो बार करें।

सुबह घी का सेवन करें
घी पित्त दोष को संतुलित करता है। इस प्रकार यह एनीमिया की जड़ तक जाता है, जो एक उत्तेजित पित्त है। सुबह खाली पेट 10 मिलीलीटर घी का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

लोहे के बर्तनों में भोजन करें
यह सदियों पुरानी तकनीक है। लोहे के बर्तन में रखा भोजन उसमें से आयरन को अवशोषित कर लेता है, जिससे वह एनीमिया के रोगी के लिए गुणकारी हो जाता है।

फल और सब्जियां लें
कुछ फल और सब्जियां एनीमिक रोगी के लिए उत्कृष्ट पूरक के रूप में कार्य करती हैं। उदाहरण के लिए चुकंदर फोलिक एसिड से भरपूर होता है। अनार और सेब आयरन से भरपूर होते हैं। इसके अलावा, विटामिन सी से भरपूर फलों का सेवन करें क्योंकि ये आयरन के अवशोषण में मदद करते हैं।

Web Title: Ayurvedic tips to increase hemoglobin in blood: 6 effective home remedies to increase blood and beat anemia naturally

स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे