गर्मियों की पहली सबसे बड़ी परेशानी होती है सूरज की तेज किरणों से होने वाली टैनिंग और दूसरा पसीने के कारण बगल से आने वाली बदबू। कितना भी डीओ, परफ्यूम का इस्तेमाल क्यों ना कर लें, लेकिन एक टाइम के बाद यह स्मेल फिर आने लगती है। लेकिन बार-बार डीओ का इस्तेमाल करना भी संभव नहीं होता है। ऐसे में अगर नेचुरल तरीके अपनाए जाएं तो बगल की स्मेल को कम किया जा सकता है। 

बगल से क्यों आती है इतनी बदबू?

उपाय से पहले जान लेते हैं कि आखिरकार बगल से ही सबसे अधिक बदबू क्यों आती है। बगल यानी हमारे अंडरआर्म एरिया 'एपोक्राइन ग्लैंड' से जुड़े होते हैं। ये ग्लैंड बॉडी में स्तन, निप्पल, प्राइवेट पार्ट्स, कान आदि से भी जुड़े होते हैं। स्तनों में दूध और कानों में वैक्स इन्हीं एपोक्राइन ग्लैंड के कारण बनती है। और अंडरआर्म से आने वाला पसीना और उसकी बदबू दोनों के लिए ये एपोक्राइन ग्लैंड ही जिम्मेदार होते हैं।

यह भी पढ़ें: गर्मियों में हर दूसरे दिन बालों में लगाएं ये एक चीज, बरकरार रहेगी चमक

अंडरआर्म स्मेल दूर करने के लिए उपाय

1. सिरका: एक कॉटन बॉल लें और सिरका में डुबोकर उसे सीधा अंडरआर्म पर लगाएं। दिन में दो बार सुबह और शाम इस प्रयोग को करने से अंडरआर्म की स्मेल नेचुरल तरीके से कम हो जाती है। सिरका में माइक्रो-बैक्टीरियल तत्व होते हैं जो अंडरआर्म को नेचुरल स्मेल प्रदान करते हैं।

2. आयोडीन: आयोडीन की कुछ बूंदें लेकर अंडरआर्म पर लगाएं और एक ब्रश की सहायता से हल्की मसाज दें। 3 से 4  मिनट तक इसे लगा रहने दें और फिर ठंडे पानी से धो लें। रोजाना एक बार इस प्रयोग को करने से अंडरआर्म से आने वाली बदबू गायब हो जाएगी। आयोडीन अंडरआर्म का पीएच लेवल बनाए रखने में मदद करता है जिसकी वजह से पसीना तो आता है लेकिन उसमें से बदबू नहीं आती है। 

3. लैवेंडर ऑइल: एक स्प्रे की बोतल में पानी डालकर उसमें लैवेंडर ऑइल की कुछ बूंदें मिलाकर शेक कर लें। इस स्प्रे को डीओ की तरह रोजाना सुबह अंडरआर्म पर छिड़कें, पसीना आने पर भी स्मेल नहीं आएगी। लैवेंडर ऑइल में अपनी ही खास खुशबू होती है जो बदबू को मारने की काम करती है।

4. बेकिंग सोडा: एक चम्मच बेकिंग सोडा पाउडर में एक चम्मच ही नींबू डालें और मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें। इस पेस्ट को अपने अंडरआर्म पर लगाएं और करीब 3 से 4 मिनट के लिए छोड़ दें। इसके बाद ठंडे पानी से निकाल दें। इस प्रयोग को रोजाना सुबह नहाने से पहले करें, कुछ ही सप्ताह में पसीने से आने वाली बदबू और अंडरआर्म में बनने वाले बैक्टीरिया, दोनों से छुटकारा मिले जायेगा।

यह भी पढ़ें: दांतों को नैचुरली सफेद बनाने के 5 तरीके

5. नींबू: कुछ ना मिले तो केवल नींबू को भी अंडरआर्म पर रगड़ें और कुछ मिनट रखने के बाद ठंडे पानी से धो लें। इससे अंडरआर्म की बदबू भी निकला जाएगी और यदि अंडरआर्म पर टैनिंग है तो वह भी निकल जाएगी। इस प्रयोग को भी रोजाना नहाने से पहले किया जाए तो कुछ ही हफ्तों में बदबू रहित और सुंदर अंडरआर्म पाएंगे।

6. नारियल तेल: रोजाना नहाने के बाद उंगलियों पर थोड़ा नारियल तेल लें और उसे सीधा अंडरआर्म पर लगाएं। यह तेल अपने आप अंडरआर्म की त्वचा में मिल जायेगा। इस प्रयोग को दिन में 2 से 3 बार किया जा सकता है, लेकिन तेल लगाने से पहले नहा लें या फिर अंडरआर्म को अच्छे-से साफ कर लें। नारियल तेल अंडरआर्म में बनने वाले बैक्टीरिया को खत्म करने का काम करता है।

7. लहसुन: अगर हमारा शरीर अन्दर से स्वस्थ है तो इसका सकारात्मक प्रभाव स्किन पर भी पड़ता है। अंडरआर्म से स्मेल आए तो व्यक्ति को रोजाना लहसुन की एक ली चबाने चाहिए। अगर चबाने में तकलीफ हो तो रोजाना की डाइट में लहसुन का इस्तेमाल बढ़ा दें। लहसुन खाने से बॉडी में बनने वाले बैक्टीरिया में कमी आएगी। इसके एंटी-ऑक्सीडेंट तत्व अंदरूनी रूप से ही पसीने को बदबू रहित बनायेंगे।

8. आलू: इसे खाना नहीं है, इसकी स्लाइस काटकर अंडरआर्म पर रगड़ें और फिर कुछ देर छोड़ दें। इसके बाद इसे ऊपर ही अपना डीओ लगा लें। दिन में 1 से 2 बार ऐसा करेंगे तो स्मेल नहीं आएगी। आलू में अंडरआर्म के पीएच लेवल को कंट्रोल में रखने के गुण होते हैं। 

9. एलोवेरा: उंगलियों पर थोड़ा एलोवेरा लेकर अंडरआर्म पर लगाएं और पूरी रात लगा रहने दें। रात भर यह एलोवेरा अंडरआर्म को नेचुरल तरीके से स्वस्थ बनाएगा, बदबू से बचाएगा और साथ ही यदि अंडरआर्म पर टैनिंग हो रखी हो तो उसे भी दूर करेगा।

यह भी पढ़ें: एक रात में गायब करें पिम्पल, चुनें 7 में से कोई भी एक तरीका

10. एप्सम साल्ट: बाजार से एप्सम साल्ट नाम का एक नमक मिलता है। इसमें एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं जो बॉडी पर बनने वाले संक्रमण से निजात दिलाते हैं। इस नमक को नहाने के पानी में मिलाएं और रोजाना इस पानी से नहाएं। ना केवल अंडरआर्म, बल्कि पूरी बॉडी पर जिस भी स्किन पर कोई संक्रमण बन रहा हो, वह धीरे-धीरे साफ हो जायेगा।

फोटो: स्टाइलक्रेज, पिक्सा-बे, विकिमीडिया कॉमन्स, फ्लिकर