Uttar pradesh report 3 lakh duplicate candidates left examination in 2018 | यूपी में नकल पर रोक, सख्ती की वजह से पिछले 3 लाख नकलचियों ने छोड़ी परीक्षा
प्रतीकात्मक तस्वीर

उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि प्रदेश में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में नकलविहीन परीक्षा कराने का संकल्प पूरा होता नजर आ रहा है। प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक यहां उत्तर प्रदेश पं. दीनदयाल उपाध्याय पशुचिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय एवं गौ अनुसंधान संस्थान प्रांगण में निर्मित आडिटोरियम भवन के उद्घाटन समारोह में भाग लेने पहुंचे ।

इस मौके पर संवाददाताओं के सवालों के जवाब में उन्होंने कहा, ‘राज्य सरकार की परीक्षाओं में नकल रोकने के प्रयासों में बहुत अच्छी सफलता मिली है। जिसका प्रमाण है कि अब नकल की आस रखने वाले छात्र परीक्षा देने से ही डरने लगे हैं। इससे उनकी संख्या में खासी गिरावट आई है।’

राज्यपाल ने विगत दो वर्षों के परीक्षार्थियों के आंकड़े रखते हुए कहा, ‘आम तौर पर जहां हर वर्ष परीक्षार्थियों की संख्या में इजाफा होता जाता है लेकिन उत्तर प्रदेश में गत वर्ष उपाधियां प्राप्त करने वाले परीक्षार्थियों की संख्या में 3 लाख की कमी दर्ज की गई है।’

उन्होंने बताया, ‘वर्ष 2017-18 में 16 लाख छात्रों ने विभिन्न विषयों में उपाधियां प्राप्त की थीं, किंतु 2018-19 में यह संख्या गिरकर 13 लाख रह गई। जिससे साफ होता है कि 3 लाख से अधिक परीक्षार्थियों ने परीक्षा नहीं दी। ऐसा होने के पीछे सबसे बड़ा कारण नकल विहीन परीक्षा का होना है।’

नाईक ने कहा, ‘हमें पूरी उम्मीद है कि इस वर्ष भी कैमरे की उपस्थिति और चाक-चैबंद वातावरण में ही परीक्षाएं सम्पन्न होंगी और पूरी तरह से नकल विहीन होंगी।’


Web Title: Uttar pradesh report 3 lakh duplicate candidates left examination in 2018
पाठशाला से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे