बिहार: रेत के काले खेल में गिर रही हैं लाशें, अमनाबाद को कहा जाने लगा है 'वासेपुर'

By एस पी सिन्हा | Published: October 1, 2022 04:02 PM2022-10-01T16:02:54+5:302022-10-01T16:12:33+5:30

पटना के बेहद नजदीक बिहटा थाना क्षेत्र के अमनाबाद में रेत के काले खेल में लगातार लाशें गिर रही हैं। अवैध खनन के मामले में यह इलाका बिहार के 'वासेपुर' के रूप में चर्चित हो गया है।

Bihar: Dead bodies are falling in the black game of sindh, Aminabad is being called 'Wasseypur' | बिहार: रेत के काले खेल में गिर रही हैं लाशें, अमनाबाद को कहा जाने लगा है 'वासेपुर'

फाइल फोटो

Next
Highlightsपटना के बेहद नजदीक बिहटा थाना क्षेत्र के अमनाबाद में रेत माफियाओं के कारण पुलिस भी दहशत में हैबीते गुरुवार को रेत माफियाओं के बीच चली गोलियों की तड़तड़ाहट से पूरा इलाका खौफजदा है रेत माफियाों के बीच अंधाधुंध फायरिंग हुई लेकिन पुलिस 11 घंटे तक घटनास्थल पर नहीं पहुंची

पटना:बिहार की राजधानी पटना से महज 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित बिहटा थाना इलाके में अमनाबाद में पीला सोना (बालू) के काले खेल में लगातार लाशें गिर रही हैं। अवैध खनन के मामले में यह इलाका बिहार के 'वासेपुर' के रूप में चर्चित हो गया है। यहां गैंग्‍स आफ फौजी और सिपाही का राज चलता है। यहां गोलियां की तड़तड़ाहट से पुलिस भी सहम जाती है।

हाल यह है कि गोलियां तो चलती हैं, लेकिन उसकी गिनती नहीं होती। लाशें गिरती हैं तो उनकी खबर तक बाहर नहीं आती है। उल्लेखनीय है कि गुरुवार को बालू के अवैध खनन को लेकर वर्चस्व की लड़ाई में दो गिरोहों के बीच अंधाधुंध फायरिंग होती रही, लेकिन 11 घंटे तक पुलिस को हिम्मत नहीं हुई कि वह घटनास्थल तक जा सके। कहा जा रहा है कि इस दौरान 16 से अधिक लोगों की मौत हुई है। हालांकि पुलिस सिर्फ एक की मौत की पुष्टि कर रही है।

घटना के संबंध में यह बात भी सामने आई है कि इस गोलीबारी में दोनों गुटों की तरफ से एके-47 जैसे अत्याधुनिक हथियारो का भी इस्तेमाल किया गया। ग्रामीणों का कहना है गोलीबारी में 16 लोगों की मौत हुई है। इस वारदात के बाद कई लोग लापता हैं। उनके परिवारों का दावा है कि बालू तस्‍करों ने शव को पोकलैंड से खोदकर बालू के अंदर दबा दिया है।

इस दियारा में छोटी-मोटी वारदातें हो जाएं, दो- चार राउंड गोली चल जाए, एक-दो मजदूरों की मौत या हत्‍या ही हो जाए, तो कई बार खबर तक बाहर नहीं आती है। लाश का बाहर आना तो दूर है। प्रशासन अपनी बदनामी से बचने के लिए ऐसी खबरों पर पर्दा डालता है और तस्‍कर अपनी परेशानी से बचने के लिए। वहीं, यह बात भी सामने आई है कि इस इलाके में गोलीबारी की घटना पिछले तीन माह से चल रही थी।

लोगों ने पुलिस को इसकी जानकारी भी दी थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। यहां तक कि घटना के दौरान भी पुलिस को गांववाले सूचित करते रहे, लेकिन कोई रिस्पांस नहीं लिया गया। बताया जाता है गंगा और सोन नदी के पटना, सारण (छपरा), भोजपुर और अरवल जिले से लगते दियारा में बालू तस्‍करों का समांतर राज चलता है। इनका खौफ ऐसा है कि बालू का ठीका लेने वाली बड़ी कंपनी ब्राडसन ने हाथ खड़े कर दिए थे।

घटना के बाद सिटी एसपी पश्चिम राजेश कुमार, शुक्रवार को दानापुर एएसपी अभिनव धीमान, बिहटा व मनेर थाना की पुलिस के साथ नाव से सोन पार करके अमनाबाद दियारा पहुंचे। लेकिन एक घंटे बाद ही वापस लौट गए। इतनी बड़ी वारदात के बाद भी एसएसपी डॉक्टर मानवजीत सिंह ढिल्लों दूसरे दिन भी मौके पर नहीं गए। जबकि पुलिस मुख्यालय का आदेश है कि बड़ी घटना होने पर एसपी, एसएसपी फौरन घटनास्थल पर जाएंगे।

Web Title: Bihar: Dead bodies are falling in the black game of sindh, Aminabad is being called 'Wasseypur'

क्राइम अलर्ट से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे