PCB Advises Danish Kaneria To Approach ECB If He Wants To Resume playing club or domestic cricket | पीसीबी की दानिश कनेरिया को सलाह, 'अगर दोबारा खेलना चाहते हैं क्रिकेट तो ईसीबी से करें अपील'
दानिश कनेरिया पर ईसीबी ने 2012 में स्पॉट फिक्सिंग के लिए लगाया था आजीवन बैन

Highlightsपीसीबी ने स्पॉट फिक्सिंग आजीवन बैन मामले में दानिश कनेरिया को दी ईसीबी से अपील की सलाहईसीबी ने कनेरिया पर 2012 में काउंटी क्रिकेट में स्पॉट फिक्सिंग के लिए लगाया था आजीवन बैन

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने टेस्ट लेग स्पिनर दानिश कनेरिया से कहा है कि अगर वह क्लब या घरेलू क्रिकेट फिर से खेलना चाहते हैं तो उन्हें इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) से अपील करनी चाहिए। 

2012 में प्रतिबंधित हुए कनेरिया अपनी आजीविका चलाने के लिए फिर से क्रिकेट खेलना चाहते हैं, लेकिन पीसीबी ने कहा कि वह इस मामले में ज्यादा कुछ नहीं कर सकता क्योंकि सजा ईसीबी द्वारा दी गई थी। 

पीसीबी ने कहा, 'दानिश कनेरिया करें ईसीबी से अपील'

पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, पीसीबी ने प्रेस विज्ञप्ति में कहा, 'ईसीबी भ्रष्टाचार रोधी संहिता का अनुच्छेद 6.8 इस मामले में लागू है जिसमें साफ लिखा है कि भ्रष्टाचार रोधी पंचाट के प्रमुख, जिसने एक खिलाड़ी पर प्रतिबंध लगाया है, उसके पास खिलाड़ी को भाग लेने की अनुमति देने का अधिकार है। इसलिये आपको ईसीबी से अपील की सलाह दी जाती है।'

कनेरिया पाकिस्तान के लिए टेस्ट क्रिकेट खेलने वाले दूसरे हिंदू हैं। उन्होंने ईसीबी द्वारा इंग्लिश काउंटी को स्पॉट फिक्सिंग मामले में प्रतिबंधित किए जाने से पहले 261 विकेट झटके। 

कनेरिया ने 2018 में स्वीकार की थी स्पॉट फिक्सिंग में भूमिका

कनेरिया ने शुरू में स्पॉट फिक्सिंग में अपनी संलिप्तता से इनकार करने के बाद 2018 में एक विदेशी टेलीविजन नेटवर्क पर स्वीकार किया था कि वह दोषी हैं।

कनेरिया ने कहा कि उन्हें पेशेवर और व्यक्तिगत दोनों तरह से अकल्पनीय और असंगत कठिनाइयों का सामना करना पड़ा, और हर दिन उन्हें तकलीफ का सामना करना पड़ रहा है।

लेकिन पीसीबी ने कनेरिया को याद दिलाया कि चूंकि वह आजीवन बैन के खिलाफ अपील करने के लिए अपने सभी रास्ते बंद कर चुके हैं, ऐसे में केवल ईसीबी अब उनके मामले की समीक्षा कर सकता है।

पूर्व टेस्ट कप्तान, सलीम मल्क की इसी तरह की अपील में, पीसीबी ने कहा कि जब तक वह सहयोग नहीं कर पाएगा, जब तक वह उसका सहयोग नहीं करते।

मलिक को न्यायमूर्ति (रिटायर्ड) मलिक कय्यूम जांच आयोग की सिफारिशों पर पीसीबी द्वारा 2000 में मैच फिक्सिंग के आरोप में आजीवन  प्रतिबंधित कर दिया गया था, लेकिन उनकी सजा को 2008 में एक निचली अदालत ने रद्द कर दिया था।

मलिक को जवाब देते हुए कहा, बोर्ड ने कहा कि वह अप्रैल 2000 की बातचीत के आईसीसी द्वारा प्रदान किए गए टेपों का जवाब देने में विफल रहे थे।

Web Title: PCB Advises Danish Kaneria To Approach ECB If He Wants To Resume playing club or domestic cricket
क्रिकेट से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे