धोनी के ऑटोग्राफ के बारे में बताते हुए गावस्कर भावुक हुए, अपने आखिरी लम्हों में ये दो चीजें देखने की इच्छा जताई

सुनील गावस्कर ने कहा कि अगर मेरी जिदगी के आखिरी लम्हों में मुझे दो चीजें देखनी होगी तो मैं पहली चीज तो कपिल देव का 1983 का वर्ल्ड कप उठाने वाला लम्हा देखना चाहूंगा। दूसरा, जब धोनी ने छक्का मार कर जिस तरह से बल्ले को घुमाया है, उसे देखना चाहूंगा। अगर ये दोनों मेरे आखिरी लम्हों में दिखेंगे तो मैं हँस कर जाऊंगा।

By शिवेन्द्र कुमार राय | Published: May 16, 2023 01:20 PM2023-05-16T13:20:29+5:302023-05-16T13:21:57+5:30

Sunil Gavaskar got emotional while telling about ms Dhoni's autograph | धोनी के ऑटोग्राफ के बारे में बताते हुए गावस्कर भावुक हुए, अपने आखिरी लम्हों में ये दो चीजें देखने की इच्छा जताई

गावस्कर के निवेदन पर धोनी ने उनकी शर्ट पर माही लिखा था

Next
Highlightsगावस्कर के निवेदन पर धोनी ने उनकी शर्ट पर माही लिखा थाइस नजारे के वीडियो और तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल रहीं गावस्कर ने टीवी पर एक लाइव कमेंट्री शो के दौरान इस पूरे वाकये को बताया

नई दिल्ली: आईपीएल में 14 मई को कोलकाता नाइट राइडर्स और चेन्नई सुपर किंग्स के बीच हुए मैच के बाद मैदान पर एक अनोखा नजारा देखने को मिला था। भारतीय क्रिकेट के सबसे महान बल्लेबाजों में से एक सुनील गावस्कर ने रविवार को देश के सबसे सफल क्रिकेट कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से अपनी शर्ट पर ऑटोग्राफ लिया। इस नजारे के वीडियो और तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल रहीं। 

अब सुनीग गावस्कर ने टीवी पर एक लाइव कमेंट्री शो के दौरान इस पूरे वाकये को बताया और इस दौरान वह भावुक हो गए। गावस्कर ने कहा,  "देखिये जब मुझे पता चला कि सीएसके टीम एक 'लैप ऑफ ऑनर' देने वाली है तो मैं संयोग से वहां था। जब टीम के लोग वहां लैप ऑफ ऑनर कर रहे थे तो मैंने सोचा कि मैं अपनी शर्ट पर महेंद्र सिंह धोनी का ऑटोग्राफ ले लूं।"

गावस्कर ने आगे कहा, "हमारे कैमरे के साथ जो खड़े थे उनके पास मार्कर पेन भी था। जब मैं माही के पास गया तो मैंने उनसे रिक्वेस्ट की कि आप मेरे लिए ऑटोग्राफ दें। उन्होंने मेरी शर्ट पर ऑटोग्राफ दिया। ये मेरे लिए बड़ा इमोशनल मोमेंट है क्योंकि इस बंदे ने क्या-क्या नहीं किया है इंडियन क्रिकेट के लिए।"

सुनील गावस्कर ने कहा कि अगर मेरी जिदगी के आखिरी लम्हों में मुझे दो चीजें देखनी होगी तो मैं पहली चीज तो कपिल देव का 1983 का वर्ल्ड कप उठाने वाला लम्हा देखना चाहूंगा। दूसरा, जब धोनी ने छक्का मार कर जिस तरह से बल्ले को घुमाया है, उसे देखना चाहूंगा। अगर ये दोनों मेरे आखिरी लम्हों में दिखेंगे तो मैं हँस कर जाऊंगा।

बता दें कि गावस्कर के निवेदन पर धोनी ने उनकी शर्ट पर माही लिखा था। गावस्कर ने इस साल 17 अप्रैल को कहा था, ‘‘ चेन्नई सुपर किंग्स की टीम कठिन परिस्थितियों से बाहर निकलना जानती है और ऐसा धोनी की कप्तानी में ही संभव हो पाया है। किसी एक फ्रेंचाइजी के लिए 200 मैचों में कप्तानी करना काफी मुश्किल होता है, कप्तानी एक बोझ की तरह है जो खिलाड़ी के प्रदर्शन को प्रभावित करता है लेकिन माही अलग हैं, वह एक अलग कप्तान हैं। उनके जैसा कप्तान कभी नहीं हुआ और ना ही भविष्य में कोई उनके जैसा होगा।’’

Open in app