Ranji Trophy Final: सरफराज खान का एक और धमाका, छह मैच और 937 रन, मध्य प्रदेश ने मुंबई को दिया करारा जवाब

Ranji Trophy Final: मुंबई ने दिन की शुरुआत पांच विकेट पर 248 रन से की थी। मध्य प्रदेश ने इसके जवाब में दिन का खेल खत्म होने तक एक विकेट पर 123 रन बनाकर अच्छी शुरुआत की।

By लोकमत न्यूज़ डेस्क | Published: June 23, 2022 06:44 PM2022-06-23T18:44:17+5:302022-06-23T18:45:42+5:30

Ranji Trophy Final Sarfaraz Khan 243 balls 134 runs 13 fours 2 sixes 6 match 937 run MUM 374 MP 123-1 Madhya Pradesh trail by 251 runs | Ranji Trophy Final: सरफराज खान का एक और धमाका, छह मैच और 937 रन, मध्य प्रदेश ने मुंबई को दिया करारा जवाब

सरफराज रहे जो मौजूदा सत्र में सिर्फ छह मैच में 937 रन बना चुके हैं। (photo-bcci)

Next
Highlightsयश दुबे 44 जबकि शुभम शर्मा 41 रन बनाकर खेल रहे हैं। दूसरे विकेट के लिए 76 रन की अटूट साझेदारी कर चुके हैं। सरफराज ने सत्र का चौथा शतक जड़ते हुए 243 गेंद में 134 रन की पारी खेली।

Ranji Trophy Final: सरफराज खान के शानदार शतक से 41 बार के चैंपियन मुंबई ने रणजी ट्रॉफी फाइनल के दूसरे दिन गुरुवार को यहां मध्य प्रदेश के खिलाफ पहली पारी में 374 रन का स्कोर खड़ा किया। सरफराज ने सत्र का चौथा शतक जड़ते हुए 243 गेंद में 134 रन की पारी खेली।

मुंबई ने दिन की शुरुआत पांच विकेट पर 248 रन से की थी। मध्य प्रदेश ने इसके जवाब में दिन का खेल खत्म होने तक एक विकेट पर 123 रन बनाकर अच्छी शुरुआत की। यश दुबे 44 जबकि शुभम शर्मा 41 रन बनाकर खेल रहे हैं। दोनों दूसरे विकेट के लिए 76 रन की अटूट साझेदारी कर चुके हैं। दिन का आकर्षण सरफराज रहे जो मौजूदा सत्र में सिर्फ छह मैच में 937 रन बना चुके हैं।

मुंबई की टीम अगर इस मैच में दोबारा बल्लेबाजी करती हैं तो उनके पास सत्र में 1000 रन बनाने का मौका होगा। सरफराज ने अपनी पारी में 243 गेंद का सामना करते हुए 13 चौके और दो छक्के मारे। मुंबई ने दूसरे दिन पहले ओवर में ही शम्स मुलानी (12) का विकेट गंवाया जिन्हें गौरव यादव (106 रन पर चार विकेट) ने पगबाधा किया।

सरफराज ने ढीली गेंदों को सबक सिखाया जिससे मध्य प्रदेश के कप्तान आदित्य श्रीवास्तव को क्षेत्ररक्षकों को फैलाना पड़ा। सरफराज अब परिपक्व हो चुके हैं और 2019-20 (तब 928 रन) सत्र से अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। करियर के शुरुआती समय की अनुशासनात्मक समस्याओं से भी वह उबर चुके हैं जिसके कारण उन्हें एक सत्र के लिए मुंबई को छोड़कर जाना पड़ा था।

आसमान में छाए बादलों के बीच गेंद मूव कर रही थी लेकिन बल्लेबाजी के लिए मुश्किल पिच पर सरफराज एक छोर पर डटे रहे। मध्य प्रदेश के कप्तान के बाउंड्री रोकने के लिए क्षेत्ररक्षकों को फैलाने के बावजूद सरफराज ने तेज गेंदबाज अनुभवी अग्रवाल पर डीप एक्स्ट्रा कवर और डीप प्वाइंट के बीच से चौका जड़ा।

उन्होंने टी20 शैली में विकेटकीपर के सिर के ऊपर से स्कूप करके चार रन बटोरे। सरफराज ने 97 रन के स्कोर पर गेंदबाज के सिर के ऊपर से चौका जड़कर शतक पूरा किया जबकि लांग आन और लांग आफ पर क्षेत्ररक्षक खड़े थे। भारतीय टेस्ट टीम के मध्यक्रम में अभी जगह नहीं है लेकिन जिस तरह सरफराज बल्लेबाजी कर रहे हैं। अगर मुख्य कोच राहुल द्रविड़ के शब्दों में कहें तो वह टीम में चयन के लिए दरवाजा नहीं खटखटा रहे बल्कि जोरदार धमाका कर रहे हैं। सरफराज ने चार छोटी लेकिन प्रभावी साझेदारियां की।

उन्होंने सातवें विकेट के लिए तनुष कोटियान (15) के साथ 40, धवल कुलकर्णी (01) के साथ आठवें विकेट के लिए 26, तुषार देशपांडे (06) के साथ नौवें विकेट के लिए 39 और मोहित अवस्थी (07) के साथ अंतिम विकेट के लिए 21 रन जोड़े। मध्य प्रदेश के बल्लेबाजों ने हालांकि मुंबई को कड़ा जवाब दिया। तुषार देशपांडे ने हिमांशु मंत्री (31) को पगबाधा करके मुंबई को दिन की एकमात्र सफलता दिलाई। 

Open in app