60 साल पहले कैरेबियाई तेज गेंदबाज के बाउंसर से फ्रैक्चर के बाद इस भारतीय क्रिकेटर के सिर में लगाई गई थी मेटल प्लेट, अब ऑपरेशन से हटाई गई

पूर्व भारतीय क्रिकेटर नारी कॉन्ट्रैक्टर का ऑपरेशन कर उनके सिर में लगे मेटल प्लेट को निकाल दिया गया। उनका ऑपरेशन मुंबई के एक अस्पताल में हुआ। कॉन्ट्रैक्टर के सिर में यह प्लेट करीब 60 साल पहले बाउंसर से लगे चोट से हुए फ्रैक्चर के बाद लगाया गया था।

By विनीत कुमार | Published: April 7, 2022 08:41 AM2022-04-07T08:41:46+5:302022-04-07T08:45:05+5:30

Nari Contractor operation, plate put in head after bouncer injury removed after 60 years | 60 साल पहले कैरेबियाई तेज गेंदबाज के बाउंसर से फ्रैक्चर के बाद इस भारतीय क्रिकेटर के सिर में लगाई गई थी मेटल प्लेट, अब ऑपरेशन से हटाई गई

पूर्व भारतीय क्रिकेटर नारी कॉन्ट्रैक्टर (फाइल फोटो)

Next
Highlightsनारी कॉन्ट्रैक्टर को वेस्टइंडीज दौरे के दौरान चार्ली ग्रिफिथ की तेज बाउंसर पर लगी थी चोट।इसके बाद कॉन्ट्रैक्टर 6 दिन तक बेहोश रहे थे, जिंदगी बचाने के लिए कई ऑपरेशन भी करन पड़े।कॉन्ट्रैक्टर का इंटरनेशनल करियर इस चोट के बाद खत्म हो गया, बाद में उन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में वापसी की.

मुंबई: पूर्व भारतीय बल्लेबाज नारी कॉन्ट्रैक्टर को 1962 में वेस्टइंडीज दौरे के दौरान चार्ली ग्रिफिथ की तेज बाउंसर पर सिर में गंभीर चोट लगी थी। उस समय उनके सिर में मेटल प्लेट लगाई गई थी जिसे अब 60 साल बाद मुंबई के एक अस्पताल में सर्जरी से हटाई गई है। कॉन्ट्रैक्टर को लगाातार सिर में दर्द की शिकायत रहती थी। इसके बाद मेडिकल सलाह पर उनके सिर से प्लेट निकाला गया।

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार कॉन्ट्रैक्टर के बेटे होषेदार ने बताया कि सर्जरी के बाद उनके पिता ठीक हैं और जल्द अस्पताल से उन्हें छुट्टी मिल जाएगी।

होषेदार ने बताया, 'ऑपरेशन सफल रहा और वह जल्द ही ठीक हो जाएंगे। वह कुछ और दिन अस्पताल में रहेंगे और डॉक्टर की सलाह के बाद हम उन्हें घर ले जाएंगे। प्लेट पर त्वचा बिखर रही थी। इसलिए इसे ढकने वाली त्वचा ऊपर से कम हो रही थी। डॉक्टरों ने प्लेट को हटाने की सलाह दी। हमारा परिवार थोड़ा चिंतित था। यह एक बड़ा ऑपरेशन नहीं है लेकिन निश्चित रूप से एक अहम ऑपरेशन था।'

चोट के बाद खत्म हो गया था इंटरनेशनल करियर

88 साल के कॉन्ट्रैक्टर ने भारत के लिए 31 टेस्ट खेले। साथ ही उन्होंने 138 प्रथम श्रेणी मैच भी खेले। वेस्टइंडीज में लगी चोट के बाद उनका अंतरराष्ट्रीय करियर रुक गया था, हालांकि उन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में वापसी की। उनकी एक शानदार पारी 1959 में इंग्लैंड के खिलाफ देखने को मिली थी जब उन्होंने ब्रायन स्टैथम की गेंदबाजी पर टूटी पसलियों के बावजूद खेलते हुए लॉर्ड्स में 81 रन बनाए।

छह दिन बेहोश रहे थे कॉन्ट्रैक्टर, पांच लोगों ने दिया था खून

1962 में चोट लगने के बाद सर्जरी के दौरान कॉन्ट्रैक्टर के जीवन को बचाने के लिए कम से कम पांच लोगों ने तब रक्तदान किया था। इसमें वेस्टइंडीज के महान कप्तान फ्रैंक वॉरेल, चंदू बोर्डे, बापू नाडकर्णी, पोली उमरीगर और पत्रकार के.एन. प्रभु शामिल थे। वहीं, कॉन्ट्रैक्टर छह दिनों तक बेहोश पड़े रहे थे। 

कॉन्ट्रैक्टर के इस चोट के बाद कई ऑपरेशन हुए। बाद में तमिलनाडु के एक अस्पताल में ढाई घंटे के ऑपरेशन के बाद उनके सिर में मेटल प्लेट लगाई गई थी। 

Open in app