MS Dhoni’s secret behind recent superb performance in Australia and New Zealand | ऑस्ट्रेलिया-न्यूजीलैंड में धमाकेदार बैटिंग के लिए धोनी ने बैट में किया ये खास बदलाव, हुआ खुलासा
धोनी ने बैट के नीचले हिस्से को थोड़ा राउंड कराया।

Highlights2018 में खराब प्रदर्शन के बाद धोनी ने अपने बल्ले में बदलाव किया।धोनी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज मे 51, नाबाद 55 और नाबदा 87 रनों की पारी खेली।धोनी ने 2018 में 25 वनडे पारियों में 25 की औसत से केवल 275 रन बनाए थे।

साल 2019 की शुरुआत टीम इंडिया के विकेटकीपर बल्लेबाज एमएस धोनी के लिए शानदार रही और उनके बल्ले से जमकर रन निकल रहे है। पिछले साल खराब फॉर्म के बाद धोनी ने पहले ऑस्ट्रेलिया और फिर न्यूजीलैंड के खिलाफ धमाकेदार अंदाज में बल्लेबाजी की।

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर धोनी को बैटिंग में प्रमोट किया गया और लोगों ने कहा कि नंबर 5 पर बल्लेबाजी करना उनको पसंद आ रहा है। लेकिन धोनी की सफलता का राज कुछ और ही है, जिसका खुलासा अब हुआ है। 2018 में खराब प्रदर्शन के बाद धोनी ने अपने बल्ले में बदलाव किया और बैट के नीचले हिस्से को थोड़ा राउंड कराया।

साल 2018 में धोनी का फॉर्म काफी खराब था और उन्होंने 25 वनडे पारियों में 25 की औसत से केवल 275 रन बनाए। जो उनके 12 साल के लंबे करियर में सबसे खराब प्रदर्शन रहा।

ऑस्ट्रेलिया में तीन वनडे मैचों में धोनी ने शानदार बल्लेबाजी की और मैन ऑफ द सीरीज का खिताब अपने नाम किया। धोनी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लगातार तीन अर्धशतक लगाए और 51, नाबाद 55 व नाबदा 87 रनों की पारी खेली। इसके साथ ही उनका आत्मविश्वास वापस आ गया। न्यूजीलैंड दौरे पर धोनी ने माउंट माउंगानुइ वनडे में 48 रनों की नाबाद पारी के अलावा दो टी 20 मैचों में 39 और नाबाद 20 रन बनाए।

न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे टी20 मैच में जब धोनी और ऋषभ पंत बैटिंग कर रहे थे तब धोनी के बल्ले के आकार को देखा गया, जो कुछ अलग था। पंत का बैट नॉर्मल था जैसा बाकी बल्लेबाज इस्तेमाल करते हैं, जबकि धोनी का बैट अलग था। धोनी के बल्लेब का नीचला हिस्सा अधिक गोल था।

धोनी ने अपने बल्ले में बदलाव किया और बैट के नीचले हिस्से को थोड़ा राउंड कराया।
धोनी ने अपने बल्ले में बदलाव किया और बैट के नीचले हिस्से को थोड़ा राउंड कराया।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, धोनी के मैनेजमेंट टीम से जुडें एक सुत्र ने बताया कि उन्होंने अपने बैट में बदलाव किया, जो उनकी मजबूती को बढ़ाने के साथ उस क्षेत्र में भी सुधार कर सकें, जिनपर गेंदबाज उन्हें निशाना बना रहे थे।

BAS पार्टनर अश्विनी कोहली, जो पहले धोनी के बैट बना चुके हैं। उन्होंने बताया कि धोनी अलग-अलग विकेट और अलग-अलग देश के लिए अलग-अलग बैट का इस्तेमाल करते हैं। उन्होंने बताया कि जब गेंद विकेट पर धीमी आती है तब धोनी भारी बैट पसंत करते है, जबकि तेज विकेटों पर वो लाइटर बैट इस्तेमाल करते हैं। धोनी के बल्ले का वजन लगभग 1150 ग्राम होता है, लेकिन जब वो भारत में खेलते हैं तो 1250 ग्राम के बल्ले का इस्तेमाल करते हैं।

English summary :
Team India's wicketkeeper batsman MS Dhoni has been fantastic and his bat is getting run out. After poor form last year, Dhoni batted first against Australia and then New Zealand in a bang style.


Web Title: MS Dhoni’s secret behind recent superb performance in Australia and New Zealand
क्रिकेट से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे