Highlightsभारत ने विंडीज के खिलाफ टी-20 सीरीज 2-1 से कब्जाई।मेजबान ने निर्णायक मुकाबला जीतकर सीरीज पर कब्जा जमा लिया।

भारत ने विंडीज के खिलाफ टी-20 सीरीज 2-1 से कब्जाई। मौजूदा टी-20 चैंपियन कैरेबियाई टीम रैंकिंग में दसवें क्रम पर है। मेहमान टीम ने कीरोन पोलार्ड की कप्तानी में जुझारू प्रदर्शन किया। दूसरे मैच में विंडीज की जीत ने श्रृंखला में जान फूंक दी थी, लेकिन मेजबान ने निर्णायक मुकाबला जीतकर सीरीज पर कब्जा जमा लिया।

सीरीज में भारतीय टीम के प्रदर्शन में टॉप ऑर्डर का अहम योगदान रहा, जबकि मिडिल ऑर्डर को ज्यादा मौके नहीं मिले। वहीं गेंदबाजों ने निराश किया और रनगति पर रोक लगाने में नाकाम रहे। टीम के प्रदर्शन पर पेश है क्रिकेट एक्सपर्ट अयाज मेमन का रिपोर्ट कार्ड।

रोहित शर्मा (7/10): द. अफ्रीका के खिलाफ किए गए शानदार प्रदर्शन को विंडीज के खिलाफ शुरुआत में सफलता नहीं मिली, लेकिन मुंबई के निर्णायक मुकाबले में धमाकेदार पारी ने खूब वाहवाही लूटी। इसी आतिशी पारी के दौरान भारतीय 'मिस्टर सिक्सर' की नई पहचान भी मिली।

केएल राहुल (8.5/10): टेस्ट टीम से स्थान गंवाने के बाद सफेद गेंद के क्रिकेट में धमाकेदार प्रदर्शन। सभी मुकाबलों में बेहतरीन स्ट्राइक रेट को बरकरार रखा। साथ ही क्षेत्ररक्षण में कमाल का प्रदर्शन किया।

विराट कोहली (9.5/10): पहले और तीसरे मुकाबले में आतिशी पारियों के साथ विस्फोटक बल्लेबाज की पहचान बनाई। सीरीज में कुल 190.62 के स्ट्राइक रेट से रनों का अंबार लगाते हुए 13 छक्के भी उछाले। लेकिन रोचक प्रदर्शन पर एक कप्तान के रूप में प्रतिद्वंद्वी जीत दर्ज करने की ललक साफ तौर पर देखने को मिली।

शिवम दुबे (5.5/10): अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में नौसिसिए होने के बावजूद आत्मविश्वास देखते ही बन रहा था। खासतौर से दूसरे मुकाबले में तीसरे क्रम पर प्रमोट करने को भुनाते हुए बेजोड़ अर्धशतक पूरा किया। इससे एक उम्दा ऑलराउंडर से मुखातिब होने का मौका मिला।

ऋषभ पंत (4/10): न तो बल्लेबाजी में छाप छोड़ पाए और न ही विकेट के पीछे कमाल दिखा पाए। जिम्मेदारी के दबाव का असर साफ तौर पर दिखाई दे रहा है। हालांकि दबाव से उबरने के बाद लय हासिल करने में ज्यादा वक्त नहीं लगेगा।

श्रेयस अय्यर (5/10): टॉप ऑर्डर के धमाकेदार प्रदर्शन के चलते क्षमता साबित करने का मौका नहीं मिल पाया। तीन मुकाबलों में केवल 17 गेंदें ही खेल पाए। इसी दौरान एक चुस्त क्षेत्ररक्षक के रूप में सुर्खियां बटोरने में जरूर कामयाब रहे। बहरहाल अपनी दावेदारी को कायम रखने में सफल रहे।

रवींद्र जडेजा (5/10): पिछली सीरीज में जबर्दस्त प्रदर्शन कर टीम की जीत में अहम योगदान दिया था, लेकिन विंडीज के खिलाफ कोई खास चमत्कार नहीं दिखा पाए। हालांकि इस दौरान मौके भी ज्यादा नहीं मिले। दो मुकाबलों में दो विकेट झटकते हुए छह ओवर की गेंदबाजी की जिसके लिए 52 रन खर्च करने पड़े, लेकिन क्षेत्ररक्षण में अपनी ख्याति के अनुरूप प्रदर्शन किया।

वाशिंगटन सुंदर (4.5/10): टॉप ऑर्डर के फॉर्म में होने से मौके मिलने का सवाल ही नहीं था, लेकिन गेंदबाजी (8 रन से अधिक इकॉनॉमी रेट से दो विकेट) भी खासी निराशा हुई। टीम में स्थायी जगह बनाने के लिए बेहतर प्रदर्शन करना होगा।

कुलदीप यादव (5.5/10): केवल अंतिम मुकाबले में खेलते हुए दो विकेट झटके। हालांकि वानखेड़े की सपाट विकेट पर अन्य गेंदबाजों की तुलना में अच्छा प्रदर्शन करने में सफल रहे।

युजवेंद्र चहल (6/10): पहले मुकाबले में किफायती गेंदबाजी करते हुए मेहमानों पर लगाम लगाया। हालांकि दूसरे मुकाबले में कुछ खर्चीले साबित हुए। इसके बावजूद कोहली की रणनीति में अहम शस्त्र बने हुए हैं।

भुवनेश्वर कुमार (5.5/10): सीरीज में वापसी करते हुए औसत से अच्छा ही प्रदर्शन किया। चोट के चलते कुछ समय के लिए विश्राम करना पड़ा। फिर भी गेंदबाजी में लय और सटीकता पर ज्यादा विपरीत प्रभाव नहीं दिखाई दिया।

मोहम्मद शमी (8/10): लंबे समय बाद वापसी करते हुए वानखेड़े स्टेडियम में घातक गेंदबाजी का नमूना पेश किया। बल्लेबाजों की मुफीद विकेट पर सधी हुई गेंदबाजी की। दो विकेट झटकते हुए फॉर्म में होने का प्रमाण भी दिया।

Web Title: Ind vs WI: Indian Players performance and their Report Card against West Indies in T20 Seires
क्रिकेट से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे