I[L 2021: Why VIVO Back As Title Sponsor For Indian Premier League | Vivo को आखिर क्यों वापस मिली आईपीएल स्पाॅन्सरशिप, जानिए क्या है वजह?
वीवो ने 2018 से 2022 तक टाइटल स्पाॅन्सर के लिए बीसीसीआई को 2190 करोड़ रुपये का भुगतान किया था।

Highlightsवीवो होगा आईपीएल 2021 का प्रायोजक।बीसीसीआई को नहीं मिली अनुकूल बोलियां।बीते सीजन ड्रीम 11 ने हासिल किए थे अधिकार।

पूर्वी लद्दाख में हिंसात्मक झड़पों के बाद भारत-चीन सीमा पर तनाव को देखते हुए पिछले साल वीवो का प्रायोजन निलंबित कर दिया गया था। इसके बाद ड्रीम इलेवन को एक साल के लिए आईपीएल का टाइटल स्पाॅन्सर बनाया गया।

Vivo की फिर से होगी वापसी

चीनी मोबाइल निर्माता कंपनी वीवो की इस सत्र में आईपीएल के प्रायोजक के तौर पर वापसी होगी क्योंकि उम्मीदों के अनुरूप पेशकश नहीं होने के कारण किसी अन्य कंपनी को अधिकार स्थानान्तरण करने के उसके प्रयास विफल रहे। वीवो का भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के साथ प्रायोजन करार 440 करोड़ रुपये प्रतिवर्ष है।

बीसीसीआई सूत्रों ने कहा, ‘‘ड्रीम 11 और अनएकेडमी ने इस साल के लिए, जो पेशकश की थी वह विवो की उम्मीदों के अनुरूप नहीं थी इसलिए उसने इस साल स्वयं प्रायोजक बनने और अगले साल संभावनाएं तलाशने का फैसला किया है।’’

ड्रीम 11 ने 222 करोड़ रुपये देकर पिछले साल हासिल किए थे अधिकार

ड्रीम 11 आईपीएल 2020 का ‘टाइटल’ प्रायोजक था। उसने 222 करोड़ रुपये देकर ये अधिकार हासिल किये थे। वीवो पांच साल के करार के लिये एक वर्ष में जितनी धनराशि देगा यह उससे लगभग आधी थी। रिपोर्टों के अनुसार विवो ने 2018 से 2022 तक आईपीएल प्रायोजन अधिकार 2190 करोड़ रुपये में हासिल किये थे।

(भाषा इनपुट के साथ)

Web Title: I[L 2021: Why VIVO Back As Title Sponsor For Indian Premier League

क्रिकेट से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे