Because of SOP, I Won't Lock Myself In A Room: Arun Lal on Coronavirus fear | BCCI की एसओपी पर बोले अरुण लाल, 'मैं सामाजिक दूरी का पालन करूंगा पर खुद को कमरे में बंद नहीं करूंगा'
बंगाल के कोच अरुण लाल ने कहा कि वह कोरोना के डर की वजह से कमरें में बंद नहीं होंगे (Twitter)

Highlightsबंगाल के कोच अरुण लाल ने कहा है कि वह कोरोना वायरस के डर से खुद को कमरें में नहीं बंद करेंगेमुझसे यह अपेक्षा मत रखिये कि 65 साल का होने के कारण मैं अगले 30 साल तक खुद को एक कमरे में बंद कर लूंगा: अरुण लाल

कोलकाता: कैंसर से उबर चुके बंगाल के कोच अरुण लाल का कहना है कि घरेलू टीमों के लिये भारतीय क्रिकेट बोर्ड की मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) लागू होने का यह मतलब नहीं कि वह खुद को कमरे में बंद कर लेंगे । बोर्ड ने राज्य संघों के लिये एसओपी जारी किया है जिसके अनुसार 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोग जिन्हें कोई बीमारी रही हो या जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो, उन्हें सरकार के आगामी निर्देश मिलने तक अभ्यास शिविरों में नहीं आना चाहिये ।

अरुण लाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उदाहरण देते हुए कहा कि वह कैसे इस उम्र में देश चला रहे हैं। उन्होंने कहा ,‘‘प्रधानमंत्री 69 साल के हैं और ऐसे समय में देश चला रहे हैं। क्या उनको कोई इस्तीफा देने को कहता है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं बंगाल को कोचिंग दूं या नहीं लेकिन मैं अपनी जिंदगी जिऊंगा। मुझसे यह अपेक्षा मत रखिये कि 65 साल का होने के कारण मैं अगले 30 साल तक खुद को एक कमरे में बंद कर लूंगा। ऐसा नहीं होगा ।’’ बंगाल के इस महान क्रिकेटर ने कहा कि वह सामाजिक दूरी के प्रोटोकॉल का पालन करेंगे लेकिन पृथकवास में नहीं रहेंगे।

सामाजिक दूरी का पालन करूंगा, लेकिन क्वारंटाइन में नहीं रहूंगा: अरुण लाल 

बंगाल के एक दिग्गज लाल ने स्पष्ट किया कि जब वह सभी सामाजिक दूरियों के मानदंडों का पालन करेंगे, तो वह अपने आप को सिर्फ इस तरह से क्वारंटाइन नहीं करेंगे।

लाल ने कहा, 'मैं हर किसी की तरह सावधानी बरतूंगा - सामाजिक दूरी, हाथ धोना, सैनिटाइजेशन, मास्क पहनना, जो मैं करूंगा। अनावश्यक रूप से कोई मूर्खता नहीं होगी।' लेकिन मैं अपने आप को सिर्फ इसलिए क्वारंटाइन नहीं करूंगा क्योंकि मैं 60-प्लस का हूं। वायरस 59 और 60 के बीच के अंतर को नहीं जानता है।'

1989-90 में बंगाल की रणजी ट्रॉफी जीत के हीरो, लाल को चार साल पहले एडेनोइड सिस्टिक कार्सिनोमा का पता चला था, जो एक दुर्लभ प्रकार का लार ग्रंथियों का कैंसर था, लेकिन उन्होंने इस बीमारी पर काबू पा लिया और इस प्रक्रिया से उन्हें जबर्दस्त आशा मिली।

उन्होंने कहा, 'मैं बहुत फिट और मजबूत हूं। वास्तव में, मैं अपने जीवन में कभी भी इतना फिट नहीं रहा हूं। मैं चिंतित नहीं हूं।'

'मुझे पता है कि पूरी चिंता 60 से ऊपर के लोगों के बारे में है। मुझे यह समझ में आता है। लेकिन मुझे लगता है कि चीजें काम करेंगी। कुछ महीने में वायरस कम होने लगेगा। किसी भी वैक्सीन या किसी भी चीज से पहले।'

(PTI इनपुट्स के साथ)

 

Web Title: Because of SOP, I Won't Lock Myself In A Room: Arun Lal on Coronavirus fear
क्रिकेट से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे