मार्केट वैल्यू के हिसाब से भारतीय शेयर बाजार कर सकता है ब्रिटेन को ओवरटेक: रिपोर्ट

By रुस्तम राणा | Published: October 12, 2021 08:55 AM2021-10-12T08:55:16+5:302021-10-12T09:03:04+5:30

रिपोर्ट के अनुसार, भारत का बाजार पूंजीकरण इस साल 37 प्रतिशत बढ़कर 3.46 ट्रिलियन डॉलर हो गया है, जो वहां प्राथमिक लिस्टिंग वाली कंपनियों के संयुक्त मूल्य का प्रतिनिधित्व करता है। जो यूनाइटेड किंगडम से मिल रही है, जिसमें लगभग 9 प्रतिशत की वृद्धि के साथ $ 3.59 ट्रिलियन हो गया है, हालांकि यदि द्वितीयक लिस्टिंग और डिपॉजिटरी रसीदों को शामिल किया जाए तो यह संख्या बहुत बड़ी है।

India's stock market can overtake Britain in market value says Report | मार्केट वैल्यू के हिसाब से भारतीय शेयर बाजार कर सकता है ब्रिटेन को ओवरटेक: रिपोर्ट

Indian Share market

Next
Highlightsभारत में तकनीकी क्षेत्र में स्टार्ट अप्स का बाढ़, चीनी इक्विटी के प्रति बढ़ी नीरसतायूनाइटेट किंग्डम पर ब्रेक्जिट का असर

भारतीय शेयर बाजार मार्केट वैल्यू के हिसाब से ब्रिटेन को ओवरटेक कर सकता है। इसके साथ ही इंडियन शेयर मार्केट दुनिया के टॉप 5 क्लब में शामिल हो सकता है। ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत का बाजार पूंजीकरण इस साल 37 प्रतिशत बढ़कर 3.46 ट्रिलियन डॉलर हो गया है, जो वहां प्राथमिक लिस्टिंग वाली कंपनियों के संयुक्त मूल्य का प्रतिनिधित्व करता है। यह लगभग यूनाइटेड किंगडम के बराबर है, जिसमें लगभग 9 प्रतिशत की वृद्धि के साथ $ 3.59 ट्रिलियन हो गया है, हालांकि यदि द्वितीयक लिस्टिंग और डिपॉजिटरी रसीदों को शामिल किया जाए तो यह संख्या बहुत बड़ी है।

भारत की उच्च विकास क्षमता और एक जीवंत तकनीकी क्षेत्र जिसमें स्टार्टअप्स की बाढ़ सी देखी जा रही है, ये चीजें भारतीय उभरते बाजार को बढ़त दे रहे हैं। खासकर चीनी इक्विटी के प्रति निवेशकों ने नीरसता दिखाई है। वहीं यूनाइटेड किंगडम के लिए, ब्रेक्जिट से संबंधित अनिश्चितताओं का बाजार पर असर देखने को मिला है।

लंदन और कैपिटल एसेट मैनेजमेंट में इक्विटी के प्रमुख रोजर जोन्स ने कहा, “भारत को एक अपरिपक्व अर्थव्यवस्था से लंबी अवधि के विकास की अच्छी क्षमता के साथ एक आकर्षक घरेलू शेयर बाजार के रूप में देखा जाता है, और एक स्थिर और सुधारवादी राजनीतिक आधार इस क्षमता को साकार करने में सहायक होता है। वहीं दूसरी ओर, ब्रेक्सिट जनमत संग्रह के परिणाम के बाद से यूके पक्ष से बाहर हो गया है।”

S&P बीएसई सेंसेक्स – भारतीय एक्सचेंज बीएसई लिमिटेड का प्रमुख सूचकांक पिछले साल मार्च में अपनी गर्त के बाद से 130 प्रतिशत से अधिक बढ़ गया है, जो ब्लूमबर्ग द्वारा ट्रैक किए गए प्रमुख राष्ट्रीय बेंचमार्क में सबसे अधिक है। इसने निवेशकों को पांच वर्षों में डॉलर के संदर्भ में लगभग 15 प्रतिशत का वार्षिक रिटर्न दिया है, जो यूके के बेंचमार्क एफटीएसई 100 इंडेक्स के 6% से अधिक है।

गोल्डमैन सैक्स ग्रुप इंक के अनुसार, भारत का शेयर बाजार पूंजीकरण 2024 तक 5 ट्रिलियन डॉलर तक बढ़ने की उम्मीद है। अगले 2-3 वर्षों में नए आईपीओ से लगभग 400 अरब डॉलर का बाजार मूल्य जोड़ा जा सकता है। 

Web Title: India's stock market can overtake Britain in market value says Report

कारोबार से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे