Inauguration of Skill India Pavilion at Mahakumbh, an effort to inspire youth towards skill opportunities | महाकुंभ में स्किल इंडिया पैवेलियन का उदघाटन, युवाओं को कौशल अवसरों की ओर प्रेरित करने का प्रयास
महाकुंभ में स्किल इंडिया पैवेलियन का उदघाटन, युवाओं को कौशल अवसरों की ओर प्रेरित करने का प्रयास

देहरादून, 12 अप्रैल देश के युवाओं को कौशल अवसरों की ओर प्रेरित करने तथा उन्हें उनका अधिकाधिक लाभ दिलाने की द्रष्टि से हरिद्वार महाकुंभ मेले में सोमवार को स्किल इंडिया पैवेलियन का वर्चुअल उदघाटन किया गया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि इस पैवेलियन के द्वारा देश के युवाओं का कौशल विकास होगा और वे एक नए भारत के निर्माण में अपना योगदान देंगे।

उन्होंने कहा कि जिस प्रकार सम्पूर्ण विश्व में यह कुम्भ मेला भारत की आध्यात्मिक ताकत का बोध कराता है उसी प्रकार हम सभी का एकजुट प्रयास होना चाहिये कि स्किल इंडिया पैवेलियन के जरिए देश के युवाओं को आने वाले भविष्य के अनुरूप कौशल निर्माण में एक दिशा दे और हम सभी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के एक भारत-श्रेष्ठ भारत के सपने को साकार करने की दिशा में आगे बढ़ सकें।

मुख्यमंत्री रावत ने महिला स्वयं सहायता समूहों के कौशल विकास पर विशेष ध्यान दिये जाने और कौशल विकास कार्यक्रम को आत्मनिर्भर भारत और वोकल फॉर लोकल से जोड़ने की जरूरत पर भी बल दिया ।

कुंभ मेले में केंद्र से मिले महत्वपूर्ण सहयोग का जिक्र करते हुए रावत ने कहा कि हमारे कुशल कार्यबल की लगन और मेहनत का फल है कि इस महाकुंभ का आयोजन ऐसी कठिन परिस्थितियों में भी किया जा सका है।

भारत सरकार के कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय द्वारा वर्चुअल रूप से आयोजित इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री रावत, केंद्रीय कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्री डॉ. महेन्द्र नाथ पाण्डेय, केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक, केंद्रीय कौशल विकास एवं उद्यमिता राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार आरके सिंह की कार्यक्रम में उपस्थिति रही।

मुख्यमंत्री रावत एवं केंद्रीय मंत्री पाण्डेय ने स्किल इंडिया मेले में हिस्सा ले रहे युवाओं से बातचीत कर उन्हें कौशल विकास के लिए अन्य लोगों को प्रेरित करने एवं आत्मनिर्भर भारत की दिशा में आगे बढ़ने की भी अपील की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने विभिन्न महत्वपूर्ण योजनाओं और कार्यक्रमों से देश को एक नई दिशा दी है और कौशल विकास कार्यक्रम एक ऐसा ही महत्वपूर्ण कार्यक्रम है।

उन्होंने कहा कि भारत युवाओं का देश है और हमारे युवाओं में देश को आगे ले जाने की योग्यता और क्षमता है। उन्होंने कहा कि आज का विश्व प्रतिस्पर्धा का विश्व है। हमें अपने युवाओं को इस प्रतिस्पर्धा में जीतने योग्य बनाना है जिसके लिए बाजार की मांग के अनुरूप युवाओं के कौशल विकास पर खास ध्यान देना होगा ।

मुख्यमंत्री ने उत्तराखंड में कृषि, उद्यानिकी, फूड प्रोसेसिंग, पर्यटन विशेष तौर पर साहसिक पर्यटन और सूचना प्रोद्यौगिकी पर विशेष ध्यान देने को कहा । मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना 3.0 में उत्तराखंड को अधिक लक्ष्य आवंटित किये जाने का अनुरोध किया।

केंद्रीय मंत्री पाण्डेय ने कहा कि मेलों का आयोजन भारतीय परंपराओं का अभिन्न अंग रहा है और उनमें खेती एवं कारोबार से संबंधित यंत्रों की प्रदर्शनी भी परंपरा रही है।

उन्होंने कहा कि देश को शीर्ष स्तर पर ले जाने के लिए प्रधानमंत्री प्रयासरत हैं और उत्तराखंड को एडवेंचर, आर्गेनिक खेती, पर्यटन और अन्य क्षेत्रों में कौशल विकास के प्रशिक्षण के लिए केंद्र से पूरा सहयोग दिया जायेगा।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि कुंभ दुनिया का आकर्षण का केन्द्र होता है और इस समय कौशल विकास की दृष्टि से लोगों में जागृति फैलाने का यह सराहनीय प्रयास है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड के युवाओं में प्रतिभाओं की कमी नहीं है और कौशल विकास से उनकी प्रतिभाएं उजागर होंगी।

उन्होंने कहा कि कौशल विकास को बढ़ावा देने के लिए नई शिक्षा नीति में कक्षा छह से व्यावसायिक शिक्षा को भी जोडा गया है।

स्किल इंडिया पैवेलियन 5000 वर्ग मीटर भूमि पर फैला हुआ है जहां काउंसलिग कक्ष, प्रायोगिक स्टॉल और सैल्फी बूथ जैसे आकर्षण हैं जिनके जरिए यह समझाने का प्रयास किया गया है कि कैसे कौशल विकास प्रशिक्षण लोगों को उनकी आजीविका बढाने में मदद कर सकता है।

Disclaimer: लोकमत हिन्दी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

Web Title: Inauguration of Skill India Pavilion at Mahakumbh, an effort to inspire youth towards skill opportunities

कारोबार से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे