Highlightsमजदूर संघ ने छुट्टियों के मामलों में भी मांग की थी कि सभी तरह के वर्कर्स के लिए अलग-अलग कानून बनाए जाएं। मसलन पत्रकार, सिनेमा के कामगार, बीड़ी वर्कर्स, भवन व अन्य निर्माण से जुड़े कर्मी आदि सभी का काम अलग-अलग होता है। ऐसे में संभावना है कि सरकार छुट्टियों व पीएफ कटौती के लिए वेतन मानकों में बदलाव कर सकती है।

नई दिल्ली: पीएम खाताधारकों के लिए सरकारी सूत्रों के हवाले से मीडिया में एक बड़ी खबर सामने आ रही है। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार से बात करने के बाद जल्द ही पीएफ कटौती को लेकर एक बड़ी घोषणा कर सकती है।

डीएनए इंडिया रिपोर्ट मुताबिक, नरेंद्र मोदी सरकार 15 हजार के बजाय अब 21 हजार के वेतन मानक पर पीएफ कटौती की योजना पर फिलहाल काम कर रही है। विभाग व केंद्र सरकार के बड़े अधिकारियों के बीच पिछले कई दिनों से इस विषय पर लगातार बात जारी है। 

भविष्य निर्वाह निधी मराठी बातम्या | Provident Fund, Latest News & Live Updates in Marathi | Marathi News (ताज्या मराठी बातम्या) at Lokmat.com

रिपोर्ट के अनुसार, बीते दिनों श्रम मंत्रालय के साथ उद्योग जगत के लोगों और लेबर यूनियन के प्रतिनिधियों ने बैठकर बातचीत की है। हलांकि, सरकार ने इस मामले में अंतिम फैसला नहीं लिया है। लेकिन, यह कयास लगाया जा रहा है कि अब पीएफ की कटौती का मानक बढ़ाया जाएगा। 

EPFO मध्ये क्रेडिट होत आहे व्याज, तुमच्या खात्यामध्ये देखील पैसे आले का? अशाप्रकारे तपासा बॅलन्स | News - News18 Lokmat, Today's Latest Marathi News

बता दें कि काफी समय लेबर यूनियन के लोग सरकार से मांग कर रहे थे कि जिन कर्मचारियों का मासिक वेतन 15,000 रुपये है, उसमें PF की कटौती न की जाए। अब सरकार भी इस बात का मन बना रही है कि 15000 से बढ़ाकर इस मानक को 21 हजार कर दिया जाना चाहिए।

EPFO soon to take important decisions regarding PF & EPS pension | english. lokmat.com

यही नहीं सरकार इसके साथ ही मजदूर संगठन के एक और मांग पर विचार कर रही है। दरअसल, मजदूर संघ ने छुट्टियों के मामलों में भी मांग की थी कि सभी तरह के वर्कर्स के लिए अलग-अलग कानून बनाए जाएं। मसलन पत्रकार, सिनेमा के कामगार, बीड़ी वर्कर्स, भवन व अन्य निर्माण से जुड़े कर्मी आदि सभी का काम अलग-अलग होता है। 

Epfo News Details - News18 Lokmat Official Website

ऐसे में इनके लिए नियम अलग होने चाहिए। ऐसे में संघ की मांग कि पूरी नौकरी के दौरान मिलने वाली छुट्टी 300 कर दी जाए, जो कि मौजूदा समय में 240 है। इस मांग पर भी जल्द ही सरकार की ओर से फैसला आ सकता है। 

सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक, यदि नई वेतन सीमा को सरकार लागू करती है, तो इससे वार्षिक कर्मचारी पेंशन योजना (ईपीएस) में भारी वृद्धि होने की संभावना है। संभावना है कि इस फैसले से पेंशन योजना में कमसे-कम 50% (3,000 करोड़ रुपये) तक इजाफा होगा। 

Web Title: Employees Provident Fund: PF deduction, wage limit, earned leaves and EPFO suggestion

कारोबार से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे