विदेशों में मंदी से खाद्य तेलों में गिरावट, सरसों व सोयाबीन तिलहन के भाव मजबूत

By भाषा | Published: July 22, 2021 09:07 PM2021-07-22T21:07:57+5:302021-07-22T21:07:57+5:30

Edible oils fall due to recession abroad, mustard and soybean oilseeds prices strong | विदेशों में मंदी से खाद्य तेलों में गिरावट, सरसों व सोयाबीन तिलहन के भाव मजबूत

विदेशों में मंदी से खाद्य तेलों में गिरावट, सरसों व सोयाबीन तिलहन के भाव मजबूत

Next

नयी दिल्ली, 22 जुलाई विदेशी बाजारों में मंदी के रुख के बीच स्थानीय तेल-तिलहन बाजार में बृहस्पतिवार को विभिन्न खाद्यतेल कीमतों में गिरावट आई जबकि सोयाबीन के तेल रहित खल (डीओसी) की स्थानीय और निर्यात मांग बढ़ने के साथ साथ त्यौहारों के मद्देनजर तेल मिलों की मांग बढ़ने से सरसों तेल तिलहन और सोयाबीन तिलहन के भाव मजबूत हो गये।

बाजार सूत्रों ने बताया कि मलेशिया एक्सचेंज 0.9 प्रतिशत की गिरावट के साथ बंद हुआ जबकि शिकॉगो एक्सचेंज में तीन प्रतिशत की गिरावट थी। विदेशी बाजारों में मंदी का असर स्थानीय कारोबार पर दिखा जहां विभिन्न खाद्य तेलों के दाम गिरावट के साथ बंद हुए। इसके उलट त्यौहारों के मद्देनजर तेल मिलों के साथ साथ निर्यात एवं स्थानीय मांग के कारण सरसों और सोयाबीन तिलहन के भाव में काफी सुधार दिखा।

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के नांदेड में सोयाबीन दाने का भाव 8,700 रुपये से बढ़ाकर 8,750 रुपये क्विन्टल कर दिया गया। जबकि सलोनी, आगरा और कोटा में सरसों दाने का भाव 8,000 रुपये से बढ़ाकर 8,100 रुपये क्विन्टल कर दिया गया।

मस्टर्ड प्रोमोशन काउंसिल के विजय डाटा का कहना है कि सरसों एक्सपेलर का भाव सत्र के बाकी बचे हुए आठ महीने के दौरान मूंगफली तेल और सोयाबीन से ऊंचा बना रहेगा और अगले सात आठ महीने सरसों की कमी निरंतर बढ़ेगी। उन्होंने इस कमी का कारण सरसों से रिफाइंड बनाये जाने को बताया है।

तेल उद्योग सूत्रों के अनुसार देश में प्रतिदिन तीन से 3.5 लाख बोरी सरसों की मांग है जबकि मंडियों में आवक लगभग दो लाख बोरी की ही है। उन्होंने कहा कि आगामी दिनों में अचार निर्माता कंपनियों, सर्दियों के मौसम और त्यौहारों के लिए मांग बढ़ेगी।

उन्होंने कहा कि सरकार को अभी से सरसों की अगली बिजाई के लिए बीजों का इंतजाम कर लेना चाहिये। उन्होंने कहा कि सहकारी संस्था, हाफेड को अभी भी बाजार भाव पर सरसों की खरीद कर इसका स्टॉक बनाना बेहतर कदम हो सकता है।

बाजार में थोक भाव इस प्रकार रहे- (भाव- रुपये प्रति क्विंटल)

सरसों तिलहन - 7,705 - 7,755 (42 प्रतिशत कंडीशन का भाव) रुपये।

मूंगफली दाना - 5,895 - 6,040 रुपये।

मूंगफली तेल मिल डिलिवरी (गुजरात)- 14,500 रुपये।

मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड तेल 2,235 - 2,365 रुपये प्रति टिन।

सरसों तेल दादरी- 15,160 रुपये प्रति क्विंटल।

सरसों पक्की घानी- 2,480 -2,530 रुपये प्रति टिन।

सरसों कच्ची घानी- 2,580 - 2,690 रुपये प्रति टिन।

तिल तेल मिल डिलिवरी - 15,000 - 17,500 रुपये।

सोयाबीन तेल मिल डिलिवरी दिल्ली- 14,900 रुपये।

सोयाबीन मिल डिलिवरी इंदौर- 14,750 रुपये।

सोयाबीन तेल डीगम, कांडला- 13,350 रुपये।

सीपीओ एक्स-कांडला- 11,200 रुपये।

बिनौला मिल डिलिवरी (हरियाणा)- 14,300 रुपये।

पामोलिन आरबीडी, दिल्ली- 13,100 रुपये।

Disclaimer: लोकमत हिन्दी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

Web Title: Edible oils fall due to recession abroad, mustard and soybean oilseeds prices strong

कारोबार से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे