कॉर्टेवा एग्रीसाइंस ने 40,000 एकड़ में धान की टिकाऊ खेत के लिए समझौता किया

By भाषा | Published: July 22, 2021 02:00 PM2021-07-22T14:00:07+5:302021-07-22T14:00:07+5:30

Corteva Agriscience ties up with 40,000 acres of sustainable paddy fields | कॉर्टेवा एग्रीसाइंस ने 40,000 एकड़ में धान की टिकाऊ खेत के लिए समझौता किया

कॉर्टेवा एग्रीसाइंस ने 40,000 एकड़ में धान की टिकाऊ खेत के लिए समझौता किया

Next

नयी दिल्ली, 22 जुलाई वैश्विक कृषि फर्म कोर्टेवा एग्रीसाइंस ने गुरुवार को कहा कि उसने 2030 वाटर रिसोर्सेज ग्रुप (2030 डब्ल्यूआरजी) के साथ तीन साल की एक परियोजना के लिए हस्ताक्षर किए हैं, जिसके तहत उत्तर प्रदेश में 40,000 एकड़ में धान की टिकाऊ खेती को बढ़ावा देगा।

एक बयान के मुताबिक इस परियोजना के तहत कॉर्टेवा, विश्व बैंक समूह की मेजबानी वाला 2030 डब्ल्यूआरजी और कई हितधारक 40,000 एकड़ भूमि को धान की रोपाई के पारंपरिक पौध रोपड़ विधि की जगह सीधे बीज रोपड़ विधि में बदलने के लिए काम करेंगे।

कोर्टेवा एग्रीसाइंस के अनुसार तीन साल की परियोजना कृषि में स्थायी आजीविका को बढ़ावा देगी और किसानों के सामाजिक - आर्थिक सशक्तिकरण के लिए काम करेगी।

इस तरह से धान की खेती करने में पानी के इस्तेमाल में 35-37 प्रतिशत की कमी होती है और ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन 20-30 प्रतिशत तक कम होता है।

Disclaimer: लोकमत हिन्दी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

Web Title: Corteva Agriscience ties up with 40,000 acres of sustainable paddy fields

कारोबार से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे